हिचकियों का रहस्य

0 0
Read Time54 Second

जब जब हिचकी आईं हैं मुझको,
तब तब तेरी याद आई है मुझको।
पता नहीं ये यादें क्यों हमे सताती,
इसका रहस्य तो बताओ मुझको।

जब जब दूर रहते है एक दूजे से,
मिल नहीं पाते हैं हम एक दूजे से।
तब तब हिचकी आती है दोनो को
मिलने का प्रयत्न करते एक दूजे से।

लगता हैं हिचकियां वीणा के तार है जैसे,
बजने लगते हैं याद करते जब एक दूजे को जैसे।
क्या रहस्य छिपा है इन दिल के तारो मे,
जब हिचकियां आती हैं एक साथ दोनो के जैसे।

लगता है मेरी याद रही है तुझको,
बेबस बेसहारा कर रही है तुझको
मलाल न करना इन सब बातो का
मिलने जल्द आऊंगा मै तुझको।।

आर के रस्तोगी
गुरुग्राम

matruadmin

Next Post

साहित्यिक के गुण दोष

Fri Dec 11 , 2020
उर्दू में इसे तन्क़ीद कहा जाता है और हिंदी साहित्य में हम आलोचना कहते हैं। आलोचना एक अरबी शब्द है जो नक़द से लिया गया है, जिसका शाब्दिक अर्थ है “सही और गलत का परीक्षण करना।” शब्द में, इसका अर्थ किसी लेखक या कवि के काम की स्थिति और स्थिति […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।