Tag archives for shashank dube

Uncategorized

फाँसी पे लटका दो………..

जिस देश के धर्मों में, नारी को पूजा जाता हो। नवरात्रि में कन्या को, देवी सा देखा जाता हो।। जिस देश में नारी इंदिरा, रही प्रधानमंत्री हो। वर्तमान में नारी…
Continue Reading
काव्यभाषा

‘इश्कवार का खुमार’

इश्क़ को कुछ दिनों में, बांधना गुनाह है। इश्क व्यापार नहीं, बस दिली चाह है। पश्चिमी सभ्यता में, दिन हैं बँधे हुए। रिश्ते उलझनों में, दिल है खुले हुए। रिश्तों…
Continue Reading

मातृभाषा को पसंद कर शेयर कर सकते है