Archives for काव्यभाषा - Page 2

Uncategorized

बेटी

बेटी की सची बात सुनो  तो  सभी आज सुनो बेटी की पुकार हे !मानव मुझे मत मार में तेरा दो परिवार बनाऊँगी में तेरे हर सुख दुख में सहभागी में…
Continue Reading
Uncategorized

बस यूं ही 

चाल साजिशकर्ताओं की जातिवाद  है  फ्लाप  हुई। भाई भाई लड़वाने  वाला फेल राजनीतिक कार्ड हुई।। रेप केस  कठुआ का भी फ्लाप होते नजर आ रहा। साजिश यह बड़ी शत्रु की…
Continue Reading
Uncategorized

लिबास

तन ढकना जरूरी है इसे समझ लो खूब अंग प्रदर्शन करना है अब बड़ी भूल चारो तरफ गिद्ध है इनसे बचकर रहिये अपनी लाज खुद के हाथ अब समझदारी करिये…
Continue Reading
Uncategorized

चुप्पी तोड़ो

रोने और घिघियाने से अब न्याय नहीं मिलने वाला चिल्लाओ के फट जाये बहरे कानों का भी जाला मांगे से हक नहीं मिलगा छीनो इनके हाथों से ये लातों के…
Continue Reading
Uncategorized

पावन

तन मन पावन हो अगर सार्थक जीवन की बने डगर नकारात्मकता निकट न आएं सकारात्मक सोच बने अमर जीवन बोझिल कभी न हो अवसाद कभी प्रबल न हो खुशियां ही…
Continue Reading
Uncategorized

किसान और विज्ञान 

किसान के लिए विज्ञान जितना उपयोगी है उतना ही खतरनाक भी है ! विज्ञान ने किसान के जीवन को बहुत ही सरल बना दिया है विज्ञान ने किसान के जीवन…
Continue Reading

मातृभाषा को पसंद कर शेयर कर सकते है