हायकू उदास शाम.. गमगीन हवाएं तन्हा मौसम। गहरे पल, अधूरा एक ख़्वाब. सांसें बोझिल। सुहानी याद, बैचेन-सा मौसम.. भीगे हम। बिखरे रंग, लहराता है आंचल.. हँसे आँगन।      #आभा चन्द्रा परिचय : वर्तमान में लखनऊ में विद्यालय में कार्यरत आभा चन्द्रा की सम्प्रति स्वतन्त्र लेखन से है। आपकी लेखन […]

1

रात बहुत हो गई, चल अब सुबह होने दे… चलना कहाँ है अभी, सोच तो लेने दे। चल देंगे सुबह जल्दी, जहाँ मंजिल बुला रही होगी, होगी कोई आवाज़ ऐसी, जो हमें अपनी ओर बुला रही होगी….। जरूरी तो नहीं ,जहाँ बादल छाए रहें, वहाँ हर बार बारिश ही होगी….. […]

2

माँ, सुनता हूँ तुम सुंदर थी, पर देखी नही तुम्हारी सुंदरता.. सिवाय, हथेलियों पर उभर आई बर्तन के खुरदरेपन के , याधुँधुआते चौके से मूँदी तुम्हारी आँखों के। माँ, तुम गाती भी हो?.. कभी सुना नहीं तुम्हारा गाना, सिवाय लोरी के.. जो मुझे सुलाने के लिए गाती थी। माँ, तुम […]

ज़िंदगी एक बहुत खूबसूरत सफ़र, ज़िंदगी ईश्वर का अनमोल उपहार। ज़िंदगी है सुख-दुःख का संग़म , इसमें है मिलन-जुदाई की सरग़म । हैं अपने साथ,तो है हर पल मेला, नही तो है मुश्किलों का सिलसिला। किया जो अच्छा, तो मिला काम, बड़ी मेहनत के बाद पाया मुकाम। कहीं तो है […]

हमें याद रखना चाहिए कि,अँग्रेजी को शेक्सपियर की भाषा के रूप में जानने के बहुत पहले, हमें उसे ईस्ट इंडिया कंपनी की भाषा के रूप में जानना और सीखना पड़ा था। ‘ईश्वर,मेरे मित्रों से मेरी रक्षा करना, क्योंकि शत्रुओं से तो मैं स्वयं निपट लूँगा।’कभी वोल्टेयर,तो कभी नेपोलियन बोनापार्ट के […]

2

मन क्यों हुआ यूँ विचलित, ये कैसी हैं बेचैनी ? कौन हूँ मैं,क्या कहूँ खुद को, पूछा जब ये सवाल खुद से.. तो अंतर्मन मेरा बोल पड़ा, है अज्ञानी, ज्ञान नहीं है। साहित्य की अभी पहचान नहीं है, अ ब स से होगी शुरुआत, करो दॄढ़ खुद को, हो जाओ […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।