1

देखो फिर से होली आई है, संग अपने खुशियां लाई है.. बैर भाव को त्यागने का, प्रेम संदेशा लाई है… देखो फिर से होली आई है…। होकर रंगों में सराबोर, मिटा दो दिलों की दूरियां.. न हो किसी से कोई रंजो-गम, चारों तरफ हों बस खुशियां.. छाई चारों तरफ,सुनहरी पुरवाई […]

1

आयो आयो रे फागुन त्योहार, झूम उठी ग्वालनियाँ-2। गौएं भी झूमे,गोपालन भी झूमे-2, अरे झूम गयो-2 नंद दरबार.. झूम उठी ग्वालनियाँ, आयो आयो रे…………….। काशी भी झूमे,मथुरा भी झूमे-2, अरे झूम गयो -2 वृंदावन नार.. झूम उठी ग्वालनियाँ, आयो आयो रे……………..। राधा भी झूमे,कन्हैया भी झूमे-2, अरे झूम गयो-2 सारो […]

रंग होली के सबको सुहाने लगते हैं, अरे ! अस्सी साल के दादा भी, आज दीवाने लगते हैं । रंग होली के देखो गज़ब कर जाते हैं, काले-गोरे सभी को, एक कर जाते हैं । रंग होली के देखो क़यामत करते हैं, होली के बहाने लोग गालों को, छूने की […]

दोस्तों,एक बात में आप सभी को बताना चाहूंगा कि, लेखक जो भी लिखता है उसे कितना कुछ सोचना पड़ता है और इसकी समीक्षा भी करनी पड़ती है कि, इस बात का हमारे समाज पर क्या कुछ असर पड़ेगा ? वो अपनी तरफ से पूरी कौशिश करता है कि,पाठको के लिए […]

अधरों पर अपने उमंग लिए, बदन मरीन उमड़ता तरंग लिए.. नयनों की पिचकारी लिए टोली, गोपियों की कृष्ण संग होली। भावनाओं के रंग हैं बड़े निराले, कान्हा भंगिमाएं लिए हैं मतवाले.. संकेतों की अभिव्यक्तियाँ अबोली, भींग गई राधा संग सखी अलबेली। नयनों की रंग धार खुमार लिए तेज, कपोलों के […]

गौरी जोहवे वाट, फागुन को ठाट.. हाट रंग-पिचकारी को, छुप गयो जाने कहाँ। देखें हम यहाँ, दो महतारी को। डारूँ उनपे रंग, करूं मैं तंग। और वो झुँझलाए, मन में मेरे बात.. पिचकारी साथ शायद ही बच पाए। गालन मलै गुलाल, बिगाड़ें हाल। आज दिन होरी को, करें हमें परेशान। […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।