2

सहे,सह न सके, मन की पीड़ा। समय बीते बीत नहीं पाए क्यूँ, बीते लम्हे। आँखों में टाँकी, आँसूओं की झालर.. लुढ़का मोती। झुर्रियाँ हैं या, समय की लकीरें.. खिंची रुख पर। गहरी होती, उम्र के साथ-साथ.. बुज़ुर्ग आँखें। जीवन दौड़े, रेल की ही मानिंद.. ठहरे कहाँ। अक्षय निधि, माँ-पिता का […]

2

हम एमबीए में एडमिशन लेने की ख़ुशी में झूम रहे थे, और हम कालेज कैम्पस में ही घूम रहे थे। लेकिन कालेज को लेकर हमारे मन में दुविधा थी, वहीं पूछताछ के लिए चौकीदार की सुविधा थी। चौकीदार से हमने पूछा,- भाई एमबीए करने के लिए कालेज कैसा है ? […]

1

कागजों के ढेर लग गए हैं, स्याह हरफ़ों से रंगे कागज के। कागज भी हो गए अब काले, स्त्री पीड़ा की दास्तान कहते। चहुंओर घूम रहे हवस के भेड़िए, नारी की आबरु को लूटने। क्या अर्थ स्त्री सशक्तिकरण का, स्वतंत्रता दफन है कानूनी पन्नों में। पीड़िता मजबूर झूठे गवाहदारों से, […]

2

साधारण-सी हँसी, दिल को सुकून.. दे जाती है। प्यारी-सी माँ हमें, लाखों खुशियां दे जाती है। कुछ अनकही-सी बातें, जो और कोई न सुने.. वो मेरी माँ कहलाए।                                             […]

दिखावे की होड़ भी, लगती मृगतृष्णा-सी .. जब पैसों के पीछे, भागता है इंसान| समय और पैसा, जैसे रिश्तों से ज्यादा.. अहमियत रखता हो, तभी दौड़ -भाग के खेल में हो जाते हैं रिश्ते कमजोर| और तो और, दिखावे की होड़ में.. उड़ने पर जल जाते, उम्र के पँख | शायद, […]

1

नफ़रतों के अँधियारे को, आज हमें मिटाना है ।   नेकियों की राहों पर , प्रेम-दीप जलाना है ।।   भुलाकर रंजिशें यहाँ , सबको गले लगाना है ।   प्यार के पैग़ाम को , दुनिया में फैलाना है ।।                     […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।