जमीन और  आसमान  जिंदा रखो कुछ तो अपना स्वाभिमान जिंदा रखो वतन पे मर मिटे वतन से मोहब्बत वाले दिलो में  तिरंगे  का  सम्मान जिंदा रखो बेईमानो का साथ छोड़ क्यों नही देते जरा खुद का  भी ईमान  जिंदा रखो वतन पे बुरी नजर उठे बर्दास्त नहीं हमको मुल्क पर […]

हौसला इस कदर बढ़ाते हैं दोस्त मंजिल तक पहुँचाते हैं दोस्त सच्चे साथ छोड़ते नहीं रूठ जावो तो भी वो मनाते हैं मुश्किल कितनी भी आये राहें हो चलना भी वो बही तो  सिखाते हैं तपिश कितनी भी हो सूरज की छाँव हो या धूप न वो घबराते हैं थाम […]

जीने के लिए ऐतबार जरूरी है अपनो का सदा प्यार जरूरी है तन्हा सफर जिंदगी का कटता नहीं हमसफ़र कोई हकदार जरूरी है कोई तो हो ऐसा फिक्र करने वाला साथी   कोई  तलफगार  जरूरी है मिलते है बहुत जमाने मे चोट देने वाले मरहम बनके आए दिलदार जरूरी है रिश्ते […]

मैंने कब किसी से अदावत रखी है मेरे दिल मे तुम्हारी चाहत  रखी है फासले है तेरे मेरे दरमियाँ तो क्या दोस्ती मैंने अब तक सलामत रखी है दर्द ही दर्द  मुझको मिलते  रहे हैं मुस्कुराने की मैंने आदत रखी  है तुमको मंजिल मिले आसमां सी ऊँचाई मैंने नजरें करम […]

खुद को कैसे नाराज लिख दूँ सोचता हूँ  सारे राज लिख दूँ मस्ती  में  तुम दिन  गुजार  लो जीने का यही मैं अंदाज लिख दूँ मुद्दतों से तुमको देखा नहीं है कागज  पे तराने साज लिख दूँ छू  लो  तुम  ऊँचाई  इस  कदर हौसलों को तुम्हारे परवाज लिख दूँ एक […]

🎸 दृष्टिकोण निराला अति यारों, इस अधम मनु जीवन का सार,, अंतरंग बदरंग हुआ प्यारों, कदाचार नहीं सुंदर ढाई आखर प्यार!! 🎸 कोण पढ़ें त्रिकोण पढ़ें, नहीं पढ़ें हम कबहु सदाचार,, सम, षट कोण पोथी पढ़ें, भुल गए पढना ही शिष्टाचार !! 🎸 अल्फा, बीटा, गामा खूब पढ़े, पढ़ लिया […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।