वो आकाश, वो चांद, वो सितारे, छत पर सोते देखे थे हमने नजारे । अब कहां वो सब हमारे नसीब में, बहुमंजिलोंं में बदल गऐ घर हमारे । जिन्दगी जी रहे हम भागदोड में, दिमाग चल रहा अब जोडतोड में । कहाँँ रहे अब वो मस्त हंसीठहाके, खुद को भूला […]

2

ग़ज़ल …………1 जख़्म कितने छुपाने पड़े। सौ   बहाने  बनाने   पड़े। ==================== आँसुओं पर नज़र जब गई, हैं  ख़ुशी  के  ,जताने  पड़े। ==================== जो  तरफ़दार बनकर मिले, नाज़   उनके  उठाने   पड़े। ==================== पास थे जो शिक़ायत,गिले, आज दिल से हटाने   पड़े । ==================== जो ख़ुशी ने  दिए   फायदे, सब  हवा  में  […]

1

मेरे सामने की दीवार पर एक पुराना-सा चित्र टंगा हुआ है… जिसमें प्रकृति के नज़ारे हैं, और एक नदी बहती-सी प्रतीत होती है… वहीँ पास में कुछ घर भी दिखाई देते हैं, और वे भी मुस्कुरा रहे हैं… सब कुछ देखने पर मुस्कुराता ही नज़र आता है, पर कोई है […]

2

ज़िन्दगी के रास्ते इतने आसान न होते, अगर आप हम पर मेहरबान न होते l आप चाहते तो ये काम कल भी हो जाता, हम आज भी इसके लिए परेशान न होते। कितना अच्छा होता,हमारी गिनती इंसानों में होती, आप हिन्दू न होते,हम मुसलमान न होते। ये विश्वास और भरोसे की […]

1]बस्ता सब  बच्चों पर  भारी है। पढ़ना-लिखना जब लाचारी है। शिक्षा  इक  ऊँचा   मंसूबा  है, इसका  लेकिन  खर्चा भारी है। पूरब पर पश्चिम का रुतबा पर , ये  पीढ़ी  उसकी  आभारी   है । पढ़े  लिखों में  बिसरी  बेगारी, अनपढ़ अनगढ़  सत्ताधारी है। लायक  सारे  नाप   रहे  रस्ते, […]

कहीं हो किसी को पुकारा तो जाए, सितारा कहीं से निहारा तो जाए। सलीके बहुत हैं जहाँ में ख़ुशी के, इन्हें जिंदगी में उतारा तो जाए। सभी तुझको देखें,हो तारीफ़ तेरी, कभी रुप ऐसा निखारा तो जाए। भले आज उसको आना नहीं है, ये रस्ता ख़ुशी में बुहारा तो जाए। […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।