*बधाई हिमा दास*  हिमा दास को हम करे झुक कर कोटि सलाम। गोल्ड  पदक  दिलाया हुआ  एथलीट  में नाम ।। स्वर्ण  उसने  जीतकर बढाया  देश  का मान । रचकर नया  इतिहास भारत का बढा सम्मान ।। बिटियां  पर करों नाज हर दौड़ की यह गरिमा । उड़न परी कहलाई आज […]

गुरु पूर्णिमा पर विशेष ………. माता-पिता हैं प्रथम गुरु जिनसे होता जीवन शुरू । ज्ञान, ध्यान की साधना से जीवन को संवारते हैं गुरु ।। ज्ञान-कौशल को तराशकर शिखर पर पहुंचाते हैं गुरु । सदा सही राह पर चलना सिखलाते हैं धरा पर गुरु ।। पूर्णिमा की चांद की तरह […]

सेवानिवृत्ति एक मध्यांतर है एक नई ऊर्जा  का संचार हैं । पहले थे आप सरकारी अब असर कारी  ,  यही अंतर हैं ।। आपसे ही  सीखा हमने यह लेखन,कला कौशल बेहतर । लेकर हर पथ पर मार्गदर्शन पाया हैं स्थान देश – देशांतर ।। आपका  ऋण  उतार सकता नही “गोपाल” […]

भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस इस समय अपनी मजबूती के लिए वह हर उपाय तलाश रही है,जो कांग्रेस को उसका जनाधार लौटा सके।जिसके लिए स्वयं राहुल गांधी धीर गम्भीर होकर पार्टी नेताओं पर यह दबाव बना रहे है कि कांग्रेस अध्यक्ष पद से उन्हें मुक्त कर किसी अन्य को यह जिम्मेदारी दी […]

” चंद्र-सी शीतल तेरी गोदी   बिंदु – सा लेटा हुआ हूँ मैं ।।   तेरे नाम पर लगा चंद्र बिंदु   अब समझ में आ गया माँ ।।” किससे  सुनूँ माँ ,आज फिर वो लोरी कैसा था चंदा मामा, कैसी थी चकोरी । तेरी याद में माँ ,आज आंखें […]

जमदग्नि ऋषि हुए महान रेणुका ने जन्मा परशुराम । चहुंओर गाएं  मंगल गान धन्य हुआ जानापाव धाम ।। फूलों को दी इन्होंने खुशबू सह्स्त्रार्जुन को देकर मात । अधर्म धरा से मिटाने आएं साक्षात भगवान परशुराम ।। करें मानव सदा नेक काम इतिहास में अमर  हो नाम । प्राणियों को […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।