Tag archives for amar singh

Uncategorized

कविता रोती शब्दों से

कविता रोती शब्दों से ,कवि गीत बनाता जाता है कुछ भूले बिसरे लम्हों के संगीत बनाता जाता है   पनघट पर जब घट फूटे तो ,कविता निकल के आती है…
Continue Reading
Uncategorized

मातृभूमि

मातृ-भूमि की गोद में,है स्वर्गिक आनन्द। जियें-मरें इसके लियें, रच लें सुन्दर छन्द।।1।। इसके पूजन हेतु हम,तन-मन-धन ले सर्व। हम पैदा इस पर हुए, हमको  इसका  गर्व।।2।। अपनी भाषा में…
Continue Reading
Uncategorized

ग़ज़ल…

तन्हा तन्हा रहती हूँ मैं अपनी मौज में बहती हूँ मैं तुम क्या जानो खंड़हर जैसी जर्रा जर्रा ढ़हती हूँ मैं निर्मल जल हिमगिरि से लेकर कलकल कलकल बहती हूँ…
Continue Reading
Uncategorized

हवाओं से कहना तुम

  हवाओं से कहना तुम, तीव्र वेग से बहते हुए जाएं। इन बेरहम घटाओं को,  दूर कहीं छोड़ आएं। पर कहना उनसे, यहीं पास ही एक गरीब सोया है। बिन…
Continue Reading
Uncategorized

छल

  कैसे हटेंगें ? कपट के गहने, तन पे सजी संस्कारों की वो मिट्टी गीली है अभी तक॥ छल-फरेब संविधान बदले क्यों बंधी है ? न्याय तुला की आंख में…
Continue Reading
12