Archives for लघुकथा - Page 3

Uncategorized

कहाँ गया वो सब्जी वाला…..

एक बड़े शहर की पॉश कॉलोनी में बनवारी नाम का सब्जी वाला लगातार सब्जियां बेचने के लिए आता था। वह सब्जी वाला काफी समय से यहां पर सब्जियां दे रहा…
Continue Reading
Uncategorized

मिनी 

नाजों से पली मिनी को शादी से पहले इस बात की भनक तक न थी कि शादी के बाद उसे प्रतदिन रोना पड़ेगा l संयुक्त परिवार की  बेटी मिनी के…
Continue Reading
Uncategorized

 सरकारी रेट

  घूरन की आँखें खुली तो धान के दो बोरे गायब थे। दो दिनों की माथापच्ची,दलालों की चिचौरी और ठेकेदारों तथा खरीदारों की घिनौनी हरकत ने उसे इस कदर थका…
Continue Reading
Uncategorized

*अपनी भाषा*

भूटान एयरपोर्ट से बाहर आते ही मिस्टर एंड मिसेज वर्मा अपने गाइड को ढूंढ ही रहे थे, तभी दौड़ता भागता एक नौजवान आया जो भूटान की पारंपरिक वेशभूषा में था…
Continue Reading
Uncategorized

“हिंदी दिवस 

"हैलो, गुड मारनिंग सर! सिबनाथ बोल रहे हैं. कैसे हैं साहेब?" शिवनाथ ने बैंक के हिंदी प्रकोष्ठ के मुख्य कार्यकारी अविनाश को फोन लगाया था. "बोलो शिवनाथ! आज इतनी सुबह…
Continue Reading
Uncategorized

मेरी बहू…

"आज रेखा कहाँ रह गईं?" लाइम सोडा पीते हुए अंजू बोली। कहाँ रहेगी रेखा? किट्टी पार्टी तो रेखा की जान है, ये रही रेखा," सोफे पर बैठते हुए रेखा बोली।…
Continue Reading

मातृभाषा को पसंद कर शेयर कर सकते है