Archives for लघुकथा

Uncategorized

सत्यव्रत

"व्रत ने पवित्र कर दिया।" मानस के हृदय से आवाज़ आई। कठिन व्रत के बाद नवरात्री के अंतिम दिन स्नान आदि कर आईने के समक्ष स्वयं का विश्लेषण कर रहा…
Continue Reading
Uncategorized

अभिमान

आरव बड़ा अफसर था।  उसके अधीन कई कर्मचारी कार्यरत थे। एक बार उसे ऊपर से आदेश मिला कि इस वर्ष अच्छा प्रदर्शन करने वाले 10 कर्मचारियों की सूची बनाएँ ,…
Continue Reading
Uncategorized

खाली

गीता जब छुट्टियों में इस बार अपने ससुराल गई तो उसने अपने  देवर को बात-बात पर घर पर सभी पर चिल्लाते हुए पाया।ऐसा लगता था मानो बीबी और माँ पर…
Continue Reading
Uncategorized

छोटू

u 'माँ आई है' कहकर छोटू दौड़ा और जाकर अपनी माँ से लिपट गया । माँ बस पीठ थपथपाती रही ...दोनों तरफ एक महासागर था जो उमड़ पड़ने को आतुर…
Continue Reading
Uncategorized

दो परवाने चंदन और बेचैन

कभी वे सिर पर मैला ढोेने वालो की टोकरियो को दहन करके शासन से उनके लिए रोजगार की मॉग करते हैं , तो कभी सेप्टिक टैंक में मरने वाले मजलूमों…
Continue Reading
Uncategorized

इंसानियत

"तिन्नी एक कप चाय और चार पीस ब्रेड को सेक कर रवि को दे दे। दस बज गए हैं, फिर उसके खाना खाने का समय हो जाएगा।" नीतू ने अपनी…
Continue Reading

मातृभाषा को पसंद कर शेयर कर सकते है