रश्मिरथी डॉ कुँअर बेचैन: गीत की अंगड़ाई से कविता के यौवन तक   डॉ अर्पण जैन ‘अविचल’ दुख ने तो सीख लिया आगे-आगे बढ़ना ही और सुख सीख रहे पीछे-पीछे हटना सपनों ने सीख लिया टूटने का ढंग और सीख लिया आँसुओं ने आँखों में सिमटना पलकों ने पल-पल चुभने की बात सीखी बार-बार […]

रश्मिरथी  डॉ हरिओम पवार: अग्नि गीतों से भारत माँ की उतारते आरती  डॉ अर्पण जैन ‘अविचल’ घायल भारत माता की तस्वीर दिखाने लाया हूँ मैं भी गीत सुना सकता हूँ शबनम के अभिनन्दन के मै भी ताज पहन सकता हूँ नंदन वन के चन्दन के लेकिन जब तक पगडण्डी से संसद तक कोलाहल है […]

रश्मिरथी सुरेंद्र शर्मा : चार लाइना से जनता को हास्य में डुबाने वाले का नाम डॉ अर्पण जैन ‘अविचल’ ‘पत्नी जी! मेरो इरादो बिल्कुल ही नेक है तू सैकड़ा में एक है।’ वा बोली- ‘बेवकूफ मन्ना बणाओ बाकी निन्याणबैं कूण-सी हैं या बताओ।’ हरियाणा की नंगल चौधरी ग्राम में २९ […]

2

रश्मिरथी नरेंद्र पाल जैन : गीत की गूंज का चमकता सितारा डॉ अर्पण जैन ‘अविचल’ राजस्थान की धरती के जिला उदयपुर के ग्राम ऋषभदेव में  पिता श्री श्रीपाल जी और माता श्रीमती कमलादेवी की संतान के रूप में जन्मे नरेंद्रपाल बचपन से प्रतिभाशाली और कला-साहित्य के क्षेत्र में सक्रिय है। […]

रश्मिरथी दिनेश कनोजे ‘देहाती’ : हंसी के ठहाकों से साहित्य सेवा तक  डॉ अर्पण जैन ‘अविचल’ मध्य प्रदेश के बालाघाट जिले की कटंगी तहसील के ग्राम सावंगी में पिता श्री राम चन्द्र कनोजे और माता श्रीमती अंजना देवी की सात में से चौथी संतान के रूप में १० अक्टूबर १९६६ […]

रश्मिरथी ओमपाल सिंह निडर : आंदोलन के सूत्र से अग्निधर्मा कविता तक डॉ अर्पण जैन ‘अविचल’  श्री दुर्गा सिंह व श्रीमती देवकोर की कुक्षी से  १० जून १९५० को खुशहालगढ़ (अनूपशहर) बुलंदशहर, उत्तरप्रदेश की साहित्यिक धरा पर जन्में ओम पाल काव्य कुल के अग्निधर्मा  कविता पाठ करने वाले महनीय कवि बने। बी.ए.ऑनर्स, एम.ए. पी.एच.डी. (राजनीतिशास्त्र) तक पढाई करने वाले ‘निडर’ […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।