दोस्त की बहन को बहन ही समझो जिसके घर एक ही थाली में खाना खाया है उस दोस्त के मां-बाप की हमेशा इज्जत कर लो जिनके पांव को हाथ लगाया है, मजहब जाति धर्म से बढ़कर याराना होता है मित्रता का मतलब तो बस मित्र का हो जाना होता है […]

कभी स्वयं की चिंता कभी परिवार की चिंता कभी समाज की चिंता कभी देश की चिंता कभी व्यर्थ की चिंता यह सब पहले भी था यह सब बाद भी होगा यानि जो होना है, वही होगा फिर चिंता किसलिए? ओर क्यों, किसी के लिए? चिंता हालात नही बदलती चिंता स्वयं […]

कटे पेड़ के ठूँठ विराजी, बया मनुज को कोस रही। बेघर होकर, बच्चे अपने, संगी साथी खोज रही। मोह प्रीत के बंधन उलझे, जीवन हुआ क्लेश में। जैसा भी है,अपना है यह, रहना पंछी देश में। हुआ आज क्या बदल गया क्यों, कुटुम कबीला नीड़ कहाँ। प्रातः छोड़ा था बच्चों […]

सभ्य राजनीति तले चमकता , आधुनिक गिरावट का नाच ! क्रीत दास बौद्धिक शोभित है , अनपढ़ नेताओं की आँच! मुक्त मोह अभिनय क्षमता में , बनने लगता है निष्णात! करुणा की राख तले दबती , विवश बेबसी मौत दुखांत ! आत्म चेतना की अर्थी में, झिलमिलाता पूँजी वाद ! […]

गर है दोस्ती तो दोस्ती को सम्मान देना । दोस्तों के लब ………..पर मुस्कान देना ।। मेरी नजरों में दोस्ती है जन्मों का बंधन । देनी पड़ी गर जान तो फिर जान देना ।। दूजा नही  है दोस्त, है परिवार का हिस्सा ।। माता पिता भाई बहन….. को मान देना […]

हे सदा शिव, हे अंतरयामी हे महाकाल, हे त्रिपुरारी हे नागेश्वर ,हे रुद्राय हे नीलकंठ ,हे शिवाय हे शिव शम्भू ,हे प्रतिपालक हे दयानिधि ,हे युग विनाशक हे गौरी पति,हे कैलाशी हे काशीवासी, हे अविनाशी हे पिनाकी ,हे कपाली हे कैलाशी, हे जगतव्यापी हे गंगाधराय ,हे जटाधराय हे जगतपिता,हे सर्वव्यापी […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।