आगर के उत्तर बसे,बैजनाथ भगवान। मनोकाम पूरण करें, सदा संवारे काम।। ऊपर मंगलनाथ है,खेड़ापति के पास।। मोपे किरपा कीजिये,एक तुम्हारी आस।। रत्ना मोती सुंदर सागर। धन्य भूमी है माता आगर।।१ मध्यदेश की थी रजधानी। नवम सदी इतिहास बखानी।।२ अचलेश्वर मां तुला भवानी। भेरु केवड़ सबके स्वामी।।३ जय जय बैजनाथ भगवाना। […]

ना देर लगाओ मां ,अब आ भी जाओ मां। बेटी तेरी पुकारे, कब से खड़ी है द्वारे। आ जाओ मां…. हैं आंखों में अंगारे , जग ने दिए सारे। कुछ घाव हैं गहरे,अपनों ने किए सारे। दर्द मिटाओ मां ,अब आ भी जाओ मां। ना देर लगाओ मां ,अब आ […]

खनती चूड़ियां तेरे मुझे क्यों बुलाती है। पायल की खनक भी हमें बुलाती है। हंसती हो जब तुम तो दिल खिल जाता है। और मोहब्बत करने को मन बहुत ललचाता है।। कमर की करधौनी भी कुछ कहती है। प्यास दिल की वो भी बहुत बढ़ाती है। होठो की लाली हंसकर […]

नवरात्रि पर्व का शुभागमन घर घर लगाई जा रही सांझी कच्ची मिट्टी से तैयार करके दीवार पर सजाई जा रही सांझी चाँद ,तारे,सूरज भी सजे है शेर की सवारी कर रही सांझी नो दिनों तक शाम- सवेरे आरती में गाई जाएगी सांझी दुर्गा की शिल्पकला है सांझी भक्ति की लोकगाथा […]

प्रेम वेदना क्या होती है प्रेम करके स्वंय देख लो। कष्ट किसी को भी हो सहन दोनों को पड़ता है। मीरा कृष्ण के प्यार को सुना और पढ़ा होगा। प्रेममें मीराको जहर पीना पड़ा था और वेदना कृष्ण को हुआ था।। नींद तो मुझे भी कहाँ आती है आज कल। […]

आत्मबोध हो जाता उसको परमात्म याद में रहता है जो आदि,मध्य,अंत का ज्ञान सहज रूप में पा जाता वो यथार्थ जीवन जीता है जो व्यर्थ उसे कभी भाता नही विकारो से सदा दूर रहता पवित्र सहज बन जाता वो ईश्वरीय ज्ञान हो जाता जिसको जनजन की सेवा करने लगता पुरुषार्थ […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।