परिवार ना तोड़ कभी, रखना सबको साध। साथ सभी का हो तभी, मिलता प्रेम अगाध।। बाकी जैसे भी रहे, इक भाई हो राम। छोटे लेते सीख तब, सुख चलता अविराम।। लक्ष्मण चाहे ना मिले, कुम्भकर्ण मिल जाय। भाई हेतु प्राण दिए, फिर भी ना पछताय।। प्रेम सभी में खूब हो, […]

इंदौर । सर्वाधिक हिन्दी प्रेमियों से सुसंगठित हिन्दी को राष्ट्रभाषा बनाने के लिए प्रतिबद्ध ‘मातृभाषा उन्नयन संस्थान’ द्वारा प्रतिवर्ष दो हिन्दी साधकों को ‘हिन्दी गौरव अलंकरण’ से विभूषित किया जाता है। इसी शृंखला में वर्ष 2021 के हिन्दी गौरव अलंकरण चयन समिति ने मध्यप्रदेश राष्ट्रभाषा प्रचार समिति के मंत्री एवं […]

इतना सीधापन किस काम का न दूर का दिखाई दे न पास का हमने भगवान समझ पूजा तुम्हे पर तुम्हें लगा यह किस काम का तुम्हे अंधेरे में रख किया उसने वार ओर तुम घायल हो गए खामखा फलो पर पत्थर मारे वे किसके थे अपना बाग उजाड़ते हो खामखा […]

मातृभाषा दिवस के अवसर पर विशेष विचार श्रृंखला – भाग 2 यूपी बोर्ड की परीक्षा में आठ लाख विद्यार्थियों का हिन्दी में फेल होने का समाचार 2020 में सुर्खियों में था. कुछ दिन बाद जब यूपीपीएससी का रेजल्ट आया तो उसमें भी दो तिहाई से अधिक अंग्रेजी माध्यम के अभ्यर्थी […]

आओ बैठें कुछ पल, और चिंतन करें। क्या सही, क्या गलत, इसका मंथन करें किया जिसने चिंतन, वो ही ज्ञानी हुआ। रस, रसायन का वो, सदा विज्ञानी हुआ। ऋषियों मुनियों ने भी , सदा चिंतन किया। रामायण और गीता में, जीवन का सार दिया। निखरता है व्यक्तित्व, सिर्फ चिंतन से। […]

बिहार के सीवान जिले के चैनपुर गांव के भीष्म प्रसाद के पुत्र युवा साहित्यकार रुपेश कुमार को ‘विश्व जन चेतना ट्रस्ट भारत’ से “वगिश्वरी पुज्ज – 2021” सम्मान से बसंत पंचमी 17 फरवरी 2021 को सम्मानित किया गया ! रूपेश भौतिक विज्ञान के छात्र होते हुए साहित्य में गहरी रुचि […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।