1

९ अगस्त १९४६, माँ की उम्र उस समय २२ वर्ष १ माह और आठ दिन थी,वे प्रसव वेदना से जूझ रहीं थीं। गाडरवारा जो आज भी एक क़स्बा ही है,उस समय एक छोटे से व्यवस्थित गाँव की शक्ल लिए हुए था। श्रावण माह समाप्त होने वाला था,किंतु अपनी विदाई से […]

गाडरवाड़ा। मध्यप्रदेश में वरिष्ठ कांग्रेस नेता रामेश्वर नीखरा के छोटे भाई और प्रसिद्ध फ़िल्म अभिनेता आशुतोष राणा के बड़े भाई कांग्रेस नेता प्रभात नीखरा (दादा भैया) का निधन हो गया है। उनका अंतिम संस्कार 2 अगस्त को गाडरवारा(म.प्र.) में होगा। मातृभाषा.कॉम की ओर से दादा को विनम्र श्रद्धांजलि…ईश्वर उन्हें अपने […]

3

कल सुबह मेरे एक मित्र का फ़ोन आया,बोले- भाई घर आओ। एक सिद्ध पुरुष के दर्शन करवाता हूँ। प्रसिद्धि के इस दौर में जहाँ सिद्ध ढूँढने से भी नहीं मिलते,मैं आनंद से भरा हुआ ठीक साढ़े दस बजे अपने मित्र के घर, उन विद्वान पुरुष के सम्मुख था। वे पद्मासन […]

जब शाम का सूरज, टाँक रहा होता है पश्चिम में चित्र खूब धूसर, चटक लाल रंग से.. जब धूप थके पाँव लौटने लगती है घर को, तब आकाश थोड़ा नरम होकर फैला लेता है अपनी बाँहें। तब धुंधलका उसकी बाँहों से छूटकर, फैल जाता है पूरी धरती पर, तब हवा […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।