2

कैसी कश्मकश कैसा ये प्यार है …. कभी मनुहार तो कभी तकरार है …… तुम न हो तो दुनिया वीरान मेरी …….. तुम हो,तो दिलों में बहार है।                                             […]

स्वर्ग सिधारे पिताजी, बेटा निभा रहा है फर्ज.. धीरे-धीरे उतार रहा है, पिता का लिया–कर्ज। कर्ज में वह पैदा हुआ, कर्ज में ही मर जाएगा.. कर्ज चुकाने के लिए, फिर कर्ज कर जाएगा। कर्ज एक ऐसा रोग है, जिसका न कोई इलाज.. घर-खेती सबकुछ बिके, बिक जाती है–लाज। बोल कर […]

3

मैंने कब कहा तुझसे, तू सहारे लिख देना, गर ये तेरी मर्ज़ी है दर्द सारे लिख देना। तू हमारा मालिक है,तू हमारा खालिक है, हां अगर तू राज़ी है तो खसारे लिख देना। चाहे जितनी मुश्किल हो रास्ते में तुम लेकिन, कुछ निशान मंज़िल के, कुछ इशारे लिख देना। ज़िन्दगी […]

इस भीषण तपती गरमी में एक अद्भुत शीतल कल्पना हो चली,खुली आँखों ने एक प्यारा स्वप्न दिखाया,और मैं शरद ऋतु की प्रभात बेला में तुम्हारे संग सैर पर निकल चली। हाथों में डाले हाथ लहराते हुए सुबह की हल्की गुलाबी ठंड…।एक ‘हरश्रृगांर के पेड़’ पर बरबस दृष्टि चली गई…। हरी […]

काम किसी के आए इंसान उसे कहते हैं, दर्द पराया उठा सके इंसान उसे कहते हैं, दुनिया एक पहेली कहीं धोखा कहीं ठोकर, गिर के जो संभल जाए इंसान उसे कहते हैं। संसार मुसाफिर खाना है सांसों का आना-जाना है, सागर गहरा नाव पुरानी मौजों का आना जाना है, व्यर्थ […]

हीरोइन राज्यसभा में प्रकट हुई,तो लगा वहां की धरा धन्य हो गई। आज सिर्फ एक आई,दूसरी शूटिंग में व्यस्त थी इसलिए आधी दीवारें उदास थीं,लेकिन इस हीरोइन को देखकर बाकी दीवारें नाचने लगीं और प्रसन्नता के साथ मानो गीत गाने लगी,’घर आया मेरा परदेसी,प्यास बुझी इन अँखियन की..अब दिल तो […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।