विश्व को बचाना है तो वृक्ष लगाना सीखो भारत। बच्चों से प्यारे पौधों को पानी पिलाना सीखो भारतll सूख रहे हैं आम-कटहल,कट रहे हैं नीम-पीपल। रूठ गई है धरती मैया,रूठ गए प्यारे बादलll सूखा पड़ने से पहले नई कहानी लिखो भारत, विश्व को बचाना है तो वृक्ष लगाना सीखो भारत। […]

1

  कितने प्यारे हैं  ये जानवर, जिसे करते हैं प्यार उस पे देते ,जान वार। ये मनुष्यों को भी देते हैं  प्रेम से जीने का, शार, कोई मजहब नहीं है इनका और न कभी सियासी दांव-पेंच में करते एक-दूसरे पे ,प्रहार। कभी बलि, तो कभी कुर्बानी के नाम पे मारते […]

एक पक्षी होता है जिसे बुंदेलखंड में ‘किलकिला’ कहा जाता है। किलकिला सदैव नदी की धार के ऊपर बीच में उड़ता है। वो उड़ते हुए ही नदी में रहने वाली मछलियों को देख लेता है, ये मछलियाँ उसका भोजन होती हैं। उसे जब भी भूख लगती है, वह तीर के […]

  नामकरण पर ध्यान धर,करते  हिय से जाप। अनुयायी असहिष्णु  बन, करते नहीं प्रलाप। करते  नहीं  प्रलाप, गूढ़जन  यदि अज्ञानी। होता   कैसे   ज्ञात,  यही   हैं  असली दानी। दे  प्रश्रय  पाखंड,पड़े  हैं अधम- चरण पर। छले- वही  बहुरूप,फँसे जो नामकरण पर॥               […]

नहीं अकड़ना यहाँ कभी भी, महक के जैसे बिखर के जाओ, जो याद कर ले तुम्हें ज़माना,सलाम ऐसा भी कर के जाओ……। ये लोग मुझसे हैं आज कहते, नदी के जैसे सम्भल के जाओ, मगर समंदर है आज अंदर, ये लोग कहते हैं डर के जाओ…….। नहीं है कीमत यहाँ […]

बहुत हुआ माजरा गम का, रातों की नींद गई आसमां पर दिन का आस खोता नजर, मनुष्य लुप्त होते नजर खुश तो है नहीं तू, फिर आतंक बन्द कर।          जर्जर मत कर ये धरती, कल तेरा भी खाक होगा आज जीत का जश्न कर, कल तेरा भी बर्बाद होगा […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।