तुम्हारी आँख का काजल, हजारों कत्ल करता है। किसी का दिल मचलता है, कोई बेमौत मरता है। तुम्हारे नयन कजरारे, मधुप से चूसते रस को, सभी का दिल तुम्हारे सामने, पानी-सा  भरता है।।                                    […]

जाग रे मनुवा जाग रे, खोल दे नैनन पट को। अंतर्मन में बसे प्रति क्षण, काहे ढूंडे घट-घट को॥ मान रे मनुवा जान रे, छोड़ तू धर्म झंझट को। इंसानियत जगा ले तू ,कुछ न जाए मरघट को॥ चल बढ़ा कदम अपना,प्रकाश की तलाश कर। स्वविवेक से दीप जला,अज्ञानता का […]

  चेहरे पर झूठी मुस्कान,ख़ंजर छुपाए बैठा हूँ। मैं आज का इंसान हूँ,घात लगाए बैठा हूँ॥ सम्भलना,सम्भलना मुझसे तुम्हारी जिम्मेदारी है। मैं तो अखबार में भी क़त्ल छुपाए बैठा हूँ॥ मसला कुछ यूँ है आजकल मेरे वतन भारत में। मैं भारत को हिन्दुस्तान बनाए बैठा हूँ॥ कुछ लोग खफा होंगें, […]

हाँ,माना हार  के बाद  ही  जीत   हैl आत्महत्या   करना   कौन-सी       रीत    हैll दो-चार     मुश्किलों     से    तुम     डर    गएl उनको   भी   याद   कर    जिनके  घर    गएll तनाव, पढ़ाई  का  दवाब, अवसाद, […]

इंसान हूँ मैं,इंसान ही बनना चाहता हूँ। कई आदर्श हैं इस जीवन के फिर भी नहीं चाहता भगवान बनना॥ इंसान हूँ मैं इंसान ही बनना चाहता हूँ। सब जन को है चाह देव बन पूजे जाएं। पर इंसानों की खामियां कैसे कोई छिपाए॥ लोगों की इन खामियों पर कुछ कहना […]

ये रिश्ते… पतवार और सफ़ीने के… बहुत मजबूत और… बहुत कमजोर भी हुआ करते हैं… मुझे तैरना नहीं आता… और भँवर अनंत है… विस्तृत आकाश में… मैं उड़ना नहीं चाहती… इसलिए कहती हूँ कि ज़िंदगी को… हमवार रहने दो… क्यूंकि मुझे तुमसे नहीं… तुम्हारी आवाज़ की नमी से डर लगता […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।