आधी रात सन्नाटों की नीरवता में, व्याकुलता जब बढ़ने लगी दिल में फिर खलबली-सी, मचने लगी दिल की किताब के चंद पन्ने, पलट गए लम्हों की ओर चंद किस्से बचपन के हंस पड़े किलकारी मार। माँ के आँचल बाप की ऊँगली, दादी-नानी  की कहानी चाचा की पीठ बुआ ढीठ, […]

1

नदी  की  कलकल, ध्वनि-सी  करती नाचती, इठलाती, बलखाती, बावरी-सी  हो  गई  हूँ आजकल  मैं  एक, समन्दर की  खोज  में। मेरे  मन  का  उल्लास, मुझे  रूकने  नहीं  देता थमने  नहीं  देता, दौड़  पड़ती हूँ  मैं हर  उस  परछाईं  की  ओर, जो  तुम-सी लगती  है तुम-सी दिखती  है। बह जाती  हूँ पवन […]

चल रे मन आज कुछ नया करते हैं, आसमां को जमीं और जमीं, को आसमां पर ले चलते हैं। आँगन में बिखरी यादों के लम्हों को, मेंहदी वाली हथेलियों से समेटते हैं। चल रे मन ……………………॥ पनीली अँखियों में रुठे सपनों को ढूंढते हैं, बहते हुए आंसूओं का समन्दर ढूंढते […]

पिछली रात हुई बरसात , और पानी सड़कों पर आया। भोर हूई और देख हाल, मेरा तो बस मन भर आया। कहीं डालियां टूटी बिखरी है, कहीं कीचड़ की नदियां दिख रही है। सब और हलचल छा गई है, और जनता सारी चीख रही है। लगता है आँधी भी थी […]

मैं निर्जीव हूँ मेरा भी सम्मान करो, मुझमें तुम्हारी जैसी जान नहीं बोल नहीं पाता, हँस नहीं पाता रो नहीं पाता पर मेरी दयनीय दशा हाल बयाँ करती है, मुझे भी इन्सानों जैसा साफ सुथरा व समय-समय पर मरम्मत करते रहो। मैं खुद पर हुए प्रहार को रोक नहीं पाता, […]

1

जैसे ही वह जेल में पहुंचा, उसे एक ‘स्पेशल सेल’ में ले जाया गया। उसने संतरी से पूछा-‘ये मुझे कहाँ ले जा रहे हो, क्या मुझे सामान्य कैदियों की तरह उनके साथ नहीं रखा जाएगा?’ ‘नहीं बाबा, जेलर साहब ने जेल में आपके जैसे सब दूतों के लिए अलग सेल […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।