वो तीनों समाज की प्रतिष्ठित महिलाएं थी। सम्भ्रांत और आदर्श परिवार की मुख्य महिलाएं। समाज और परिवार में परिचित और आदरणीय। समाज के हर खुशी और गमी के कार्यक्रम में शामिल होती। तीनों की दोस्ती जगप्रसिद्ध थी। समाज की किसी भी बैठक में,कार्यक्रम में हमेशा सुझाव दिया करती और समाज […]

2

  वृक्ष की शान पे हमेशा मुस्कराई पत्ती। द्रवित हुई विछड़ कर वृक्ष से गिरी पत्ती।। हवा ने भी खूब इधर-उधर नचाई पत्ती। हाल पर अपने विचलित छटपटाई पत्ती।। तभी वृक्ष ने वहीं से आस जगाई उसकी। थी अभी तक मेरा जीवन आधार तू पत्ती।। व्यर्थ न जीवन अब भी,तू […]

रास के रचइया मोरे कृष्ण कन्हइया हो, मधुवन में ले के चल एक झुण्ड गइया होl झूमी-झूमी खेलल जाई उहाँ ओल्हा-पाती, खेलत-खेलत में होई जाई आधी रातीl खोजत-खोजत अइहें यसोमती मइया हो, मधुवन में ले के चल एक झुण्ड गइया होl रास के रचइया मोरे कृष्ण कन्हइया हो, मधुवन में […]

बदल चुका है देश का मौसम, बदल चुका है ये इंसान राजनीति की चक्की में, पिसती जा रही आम अवाम। धर्म-जाति में भेद बताकर, राजनीति की धौंस दिखाकर सांप्रदायिकता का जहर घोलकर, राम किए जा रहे बदनाम। राजनीति की….ll देशभक्तों का कोई मान नहीं है, देशसेवा का कुछ ज्ञान नहीं […]

1

कभी मत सोचना साजन हिया से दूर जाने कीll   पिया से दूर रहकर क्यों  जिया   बेचैन   होता  है, मनोरथ व्यर्थ हो जाता किसी का चैन  खोता है।   हृदय में चाह रहती है सदा प्रिय को लुभाने कीll   चली ठंडी हवा देखो  लिए मधुगन्ध फूलों की, […]

हे ज्ञानदायिनी माता विशवास अटल कर दो, नभ् में ,तम में, जग में,सब में कीर्ति अमर कर दो॥ अनिश्चितता को दूर भगाकर मन स्थिर कर दो, भक्ति ,ज्ञान का पाठ पढ़ाकर मेरी बु द्धि प्रबल कर दो॥ सारे संशय दूर भगाकर मन निर्मल कर दो , मा नवता की रह […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।