1

ये क्या कहा,ये कैसी हैरानी की बात की, सहराओं के प्यासों से क्यूँ पानी की बात की। मिलता रहा सुकून मुझे उसके शानो पर, फिर इश्क मोहब्बत के मानी की बात की। एहसास कभी उसके भुलाने को जो चले, हर शख्स से फिर उसकी निशानी की बात की। लैला नहीं,सोहनी […]

जिंदगी की गाड़ी को किस कदर,चलाना पड़ता है, निकालकर पहिए खुद जुट,जाना पड़ता हैं। कहीं सफर में खुशी मिले, कहीं राह में ग़म। रोते-रोते हमको पल में,मुस्कुराना पड़ता है। बड़ी नाजुक-सी डोर है,जीवन में रिश्तों की, हर ताना-बाना सलीक़े से,सजाना पड़ता है। कठपुतली की तरह,जी रहे हैं जीवन अपना, जाने […]

  दास्ताँ  दर्दे   दिल  की सुनाते  रहे। वो  हमें   देखकर   मुस्कराते  रहे। टूटकर के बिखरने से क्या फायदा। ये  गलत है  उन्हें हम सिखाते  रहे। जब कभी देखा गम़गीन मैंने उन्हें। आँख  में अश्क अपने  छुपाते रहे। हम शिकायत करें भी तो किससे करें। जब  खुदा खुद […]

नारी—– तुझमें ही प्रेम प्रतिज्ञा का रुप हमने देखा है, तुझमें ही रणचंडी का स्वरुप हमने देखा है। तुम प्रतिमा हाड़ा रानी के शीश दान की हो, तुम पावन गाथा पन्ना धाय के स्वाभिमान की हो। हम तुम्हें दुर्गा काली का अवतार समझते हैं, रानी लक्ष्मीबाई की,पैनी तलवार समझते हैं। […]

अषाढ़ बीता सावन बीता, आंगन रहा रीता का रीता। कुदरत ने घुमाई ऐसी छड़ी लगी अब भादो की झड़ी॥ जब जागो तब सवेरा है, आंख मीची के अंधेरा है। देर है पर नहीं  है अंधेर, सब है ये समय का फेर॥ जल  है  तो  जीवन  है, जल बिन सिर्फ अगन […]

अपना ही नुकसान हुआ, सच कहने पर ज्ञान हुआ। जिसकी जितनी भीड़ बड़ी, उतना वह भगवान हुआ। ‘राम रहीम’ कहा खुद को, फिर वो क्यों शैतान हुआ। जनसेवक फर्जी निकला, उसका ही कल्याण हुआ। मुझे देख तुम मुस्काए, यह भी इक अहसान हुआ। अंतकाल जब आया तो, पंकज का सम्मान […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।