इंसान हूँ मैं,इंसान ही बनना चाहता हूँ। कई आदर्श हैं इस जीवन के फिर भी नहीं चाहता भगवान बनना॥ इंसान हूँ मैं इंसान ही बनना चाहता हूँ। सब जन को है चाह देव बन पूजे जाएं। पर इंसानों की खामियां कैसे कोई छिपाए॥ लोगों की इन खामियों पर कुछ कहना […]

ये रिश्ते… पतवार और सफ़ीने के… बहुत मजबूत और… बहुत कमजोर भी हुआ करते हैं… मुझे तैरना नहीं आता… और भँवर अनंत है… विस्तृत आकाश में… मैं उड़ना नहीं चाहती… इसलिए कहती हूँ कि ज़िंदगी को… हमवार रहने दो… क्यूंकि मुझे तुमसे नहीं… तुम्हारी आवाज़ की नमी से डर लगता […]

आप मैं हम, तम दूर भगाएं दीप जलाएं। अज्ञान रूपी, अंधकार मिटाएं दीप जलाएं। न्याय के लिए, एक पग बढ़ाएं दीप जलाएं। हम भी खुश, रहे न वो भी दुखी कर जतन। झोपड़ी को भी, करें हम रोशन दीप जलाएं। करें रोशन, उस बस्ती को हम जहाँ है तम। ऐसा […]

ज़िन्दगी है चार दिन की,जरा मुस्कुराइए, ख्वाबों के दायरे से हकीकत में आइए। ख्वाब होते हैं सुहाने,पलकें जब तक बन्द हैं, खुल जो गईं हैं आंखें तो फिर जाग जाइए। आपके आसपास जो हैं आपके अपने हैं सब, घावों पर उनके भी तो कभी मरहम लगाइए। खुशनसीबी तो आपकी चौखट […]

हम तुमसे मिले या नहीं मिले, पर भावों से भूल बहुत की है कभी हँसी में की, कभी ख़ुशी में की या बात हमारी तुमको चुभी, हम कहते हैं कि सब भूलों को भूल जाओ…भूल जाओl हम जन्में हैं,जबसे समझो, त्रुटियों का एक पुलिन्दा हैं प्रभु ने राह बताई है […]

 अनुशासन बंधन नहीं है। प्रकृति भी अनुशासित है। देखो न, पृथ्वी और सारे ग्रह अपनी निश्चित परिधि में निश्चित गति पर सूर्य के चक्कर लगाते हैं। दिन रात, मौसम चक्र, सब इसी प्रबंधन का परिणाम है। पृथ्वी यदि कह दे , मैं तो बोर हो गई, या थक गई, एक […]

संस्थापक एवं सम्पादक

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’

29 अप्रैल, 1989 को मध्य प्रदेश के सेंधवा में पिता श्री सुरेश जैन व माता श्रीमती शोभा जैन के घर अर्पण का जन्म हुआ। उनकी एक छोटी बहन नेहल हैं। अर्पण जैन मध्यप्रदेश के धार जिले की तहसील कुक्षी में पले-बढ़े। आरंभिक शिक्षा कुक्षी के वर्धमान जैन हाईस्कूल और शा. बा. उ. मा. विद्यालय कुक्षी में हासिल की, तथा इंदौर में जाकर राजीव गाँधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के अंतर्गत एसएटीएम महाविद्यालय से संगणक विज्ञान (कम्प्यूटर साइंस) में बेचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीई-कंप्यूटर साइंस) में स्नातक की पढ़ाई के साथ ही 11 जनवरी, 2010 को ‘सेन्स टेक्नोलॉजीस की शुरुआत की। अर्पण ने फ़ॉरेन ट्रेड में एमबीए किया तथा एम.जे. की पढ़ाई भी की। उसके बाद ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियाँ’ विषय पर अपना शोध कार्य करके पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने सॉफ़्टवेयर के व्यापार के साथ ही ख़बर हलचल वेब मीडिया की स्थापना की। वर्ष 2015 में शिखा जैन जी से उनका विवाह हुआ। वे मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं और हिन्दी ग्राम के संस्थापक भी हैं। डॉ. अर्पण जैन ने 11 लाख से अधिक लोगों के हस्ताक्षर हिन्दी में परिवर्तित करवाए, जिसके कारण वर्ल्ड बुक ऑफ़ रिकॉर्डस, लन्दन द्वारा विश्व कीर्तिमान प्रदान किया गया।