Folks are beginning to observe that Global Warming is actually a problem that must be handled. There are a lot of stuff we can do to be able to fix the issue of global warming. Investigation proves that global warming results from human activity. This may help prevent the present […]

Фанис Джураев Тимурович (Мытищи, Россия). Родной город: Ташкент. Город проживания: Москва. Год рождения: 24.04. Логин в сети Интернет – fanis70, использует мобильный телефон +79261851931 (Viber, WhatsApp). Емаил: fanisdghuraev@gmail.com, Skype-логин fanis240470. Мобильный телефон в Турции – +90 (538) 0598740 (если уже не отключен). Профиль в Facebook.com Post Views: 147

2

खो सा गया वो दुनिया के मेले में, पास था कितना अपने वो अकेले में। भुलाकर वो खुद को खुद, पड़ा वो दुनिया के झमेले में। क्यों है तन्हा तू अब भी,संग दुनिया, रहकर भी सोचता है वो अकेले में। इससे बेहतर तो तू तब था जब तू, खोया था […]

1

मन का दर्पण देख नर,बाहर भरम अथाह। भेद मिटे सारे सहज, अटल रहे उत्साह।। दर्पण को देखा हुआ, मायावरण विमोह। मन की खिड़की जब खुली,मिटा भरम सब मोह।। दर्पण दर्शन सूरत अरु,बाल क्रिडन त्रय ठाम। भूले से नहि आत है,हरि वल्लभ कौ नाम।। सत्य कहाँ दर्पण कहे,मनचीता कह पाय। मन […]

1

‘ज़मीन नहीं बन सकी तो आसमान बन गई यथार्थ से परे बस कल्पनाओं का जहान बन गई….।।’ ऐसा होता तो होगा सबके जीवन में, नहीं तो यह ख़्याल यकायक उफ़ान नही उठाता ज़हन में। इस जीवन रुपी प्रयोगशाला में हम सभी की एक अपनी-अपनी ताख़ है,अलग-अलग आकार के कांच के […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।