स्वागत है पुण्य पथ पे सदकाम कीजिएगा, मन को पवित्र मंदिर-सा धाम कीजिएगा। भारत ये विश्व गुरू की गद्दी पे पुनः बैठे, मेरी कामना को पूरन हे राम कीजिएगा। लाख उड़ानें सब भरते हैं सजन यहाँ पर कौन बना? आदर्शों की बात छेड़कर लखन यहाँ पर कौन बना.. सोच रही […]

2

पगडंडियों के सहारे, सफर तय न करना.. खुद से रास्ता बनाने का हौंसला रखना। चलना लीक पर सदैव, पर लीक से हटकर भी.. कुछ नया करना पगडण्डियों के सहारे यूँ कमजोर मत बनना। कायम रखना स्वयं का, अस्तित्व कि.. हर रहगुज़र पूछे तुम्हारी ऊँचाई का रास्ता। रोशन करते रहना अँधेरों […]

1

सुधा की नजरें बार-बार दरवाजे पर ठहर रहीं थी। उसे लग रहा था कि, बचपन की तरह आज भी उसे ‘सरप्राइज‘ देने के लिए पीयूष आ जाएगा,पर आज उसे दरवाजे की हर आहट से निराशा ही मिल रही थी। रिश्तेदारों की मूक निगाहें भी ढेरों सवाल कर रही थी,वहीं सुधा […]

1

मातृभूमि पर शीश चढ़ाने अपना सीना तान, चल-चल रे नौजवान.. माँ का आँचल दुश्मनों ने रक्त रंजित कर दिया, अनगिनत गोलियों से लहूलुहान कर दिया.. माँ की दुर्दशा देख रो रहा आसमान, चल-चल रे नौजवान…। दुश्मनों को गोलियों से भूनकर रख दो, हाथ जो उठे तो ऊपर,खण्ड-खण्ड कर दो। हौंसले […]

ये जमीं चूम लो,आसमां चूम लो, वक्त मिल जाए तो माँ के चरण चूम लो। कोई दुनिया में माँ का सानी नहीं, हो कभी कोई माँ को परेशानी नहीं। माँ के आंचल में दुनिया की शान्ति है, माँ के आंचल में छिप जी भर झूम लो.. ये जमीं……। माँ बिना […]

बेचने आई नीरु, पीले-पीले टेमरु। स्वाद लगे रसीला, जैसे खा रहे चीकू। देखकर बोला वीरु, माँ ले लो आए टेमरु। रसना नाच दिखाती, दांत आए दिखलाऊं। इसके नाम बतलाऊं, खिरनी,तेंदूफल,टेमरु। फागुनी बसंत में आए, मनभावन प्यारा टेमरु। (म.प्र. के धार जिले में ‘मांडव का मेवा’ नाम से प्रसिद्ध है तेंदूफल, खिरनी, […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।