डॉ सुरेंद्रन जे पॉन्डिचेरी के प्रदेश अध्यक्ष नियुक्त

Read Time1Second

इंदौर ।  हिन्दी भाषा को राष्ट्रभाषा बनाने के लिए कार्यरत संस्था ‘मातृभाषा उन्नयन संस्थान’ के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ की अनुशंसा पर संस्थान की राष्ट्रीय महासचिव डॉ प्रीति सुराना ने पॉन्डिचेरी प्रदेश अध्यक्ष हेतु पुंदुचेरी निवासी डॉ सुरेंद्रन जे को प्रदेश अध्यक्ष नियुक्त किया है।
डॉ सुरेंद्रन पांडिच्चेरी विश्वविद्यालय में सेवा निवृत्त हिंदी अधिकारी रहें हैं।
इसके साथ ही आप उम्दा साहित्य सृजन करते है व हिन्दी प्रचार हेतु सक्रिय भी है और अनुवादक भी है।
कई संस्थाओं में दायित्व निर्वहन के बावजूद भी सतत साहित्य साधना व हिंदी प्रचार के लिए कार्यरत है।
आपने दो पुस्तकें लिखी है साथ ही पत्र-पत्रिकाओं में नियमित लेखन में सक्रिय भी है। 
वर्तमान में डॉ सुरेंद्रन हिन्दी प्रचार हेतु समग्र पांडिच्चेरी प्रान्त में हिन्दी भाषा का प्रचार करेंगे, साथ ही प्रदेशभर में ‘हस्ताक्षर बदलो अभियान’ एवं हिंदी को राष्ट्रभाषा बनाने हेतु जनसमर्थन अभियान का संचालन करेंगे। संस्थान हिन्दी को रोज़गारमूलक मातृभाषा उन्नयन संस्थान हिंदी को राष्ट्रभाषा बनाने के दायित्व के साथ-साथ भारत के समस्त भाषाओं का हिन्दी भाषा के साथ समन्वय स्थापित करने की दिशा में भी कार्य कर रही है। डॉ सुरेंद्रन की नियुक्ति पर संस्थान की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ नीना जोशी जी,राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष समकित सुराना, राष्ट्रीय कार्यकारणी सदस्य मुकेश मोलवा, शिखा जैन, मृदुल जोशी, गणतंत्र ओजस्वी, मध्यप्रदेश प्रदेश अध्यक्ष कमलेश कमल, दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष रिंकल शर्मा, कश्मीर प्रदेश अध्यक्ष नसरीन अली निधि, जम्मू अध्यक्ष यशपाल निर्मल, तेलंगाना प्रदेश अध्यक्ष श्रीमन्नारायण चारी विराट, मेघालय अवधेश कुमार अवध, राजस्थान प्रदेश अध्यक्ष मधु खंडेलवाल, आसाम प्रदेश अध्यक्ष वाणी बरठाकुर, झारखंड प्रदेश अध्यक्ष श्रीमती ममता बनर्जी, उड़ीसा प्रदेश अध्यक्ष धीरज अग्रवाल, गुजरात प्रदेश अध्यक्ष राकेश जैन, कर्नाटक प्रदेश अध्यक्ष डॉ उर्मिला पोरवाल,  छत्तीसगढ़ प्रदेश अध्यक्ष रश्मीलता मिश्रा आदि हिंदीयोद्धाओं ने बधाइयाँ प्रेषित की।

2 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

सावन

Sun Aug 25 , 2019
सावन मास पुनीत सुहावे। मोर पपीहा दादुर गावे।। श्याम घटा नभ में घिर आती। रिमझिम रिमझिम वर्षा भाती।।१ आक विल्व जल कनक चढ़ाकर। शिव अभिषेक करे जन आकर।। झूले पींग चढ़े सुकुमारी। याद रहे मन कृष्ण मुरारी।।२ हर्षित कृषक खेत लख फसले। उपवन फूल पौध मय गमले।। नाग पंचमी पर्व […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।