Archives for संगीत

काव्यभाषा

अब घनी छाँव

लगता नहीं अब मुझे किसी भी साए से डर, लेकिन है मुझे सड़कों पर घूमती गायों से डर।। दहशतगर्दी बहुत है मंगलेश शगूफों से आजकल, टूटने लगे हैं अब मेरे…
Continue Reading
काव्यभाषा

तुम्हारी आँख का काजल

नज़र मिलते ही मेरे दिल को फौरन कर गया घायल, तुम्हारी आँख का काजल,तुम्हारी आँख का काजल। तुम्हारी हिरनी जैसी चाल पर संसार मरता है, तुम्हें जो देख लेता है…
Continue Reading
काव्यभाषा

धन्य-धन्य भारत की सेना

धन्य-धन्य भारत की सेना, भारत के हर वीर जवान। दस बंकर को नष्ट किए हैं, नानी याद करे शैतान। अमन चैन की बात न  समझे, हत्या बस जिनका है काम।…
Continue Reading
काव्यभाषा

ये खामोशी

ये तूफान के पहले की शांति है या आंधी के बाद का सन्नाटा? हकीकत चाहे जो भी हो लेकिन उम्मीद जो तुमने जगाई, उसके बाद सन्नाटे का ये आलम ऐसा…
Continue Reading
काव्यभाषा

पानी में बताशा तैर गया

युगों के बैरी मित्र हुए, न सगों का मन से बैर गया। यहाँ उथले में ही डूब गए, वहाँ पानी में बताशा तैर गया।। युगों के बैरी मित्र हुए...... मेरा…
Continue Reading
काव्यभाषा

वेदना की प्रीत

शब्द से मैं वेदना की प्रीत लिखना चाहता हूँ, काव्य की संवेदना से रीत लिखना चाहता हूँ। _ पथ न विचलित हो सृजन की वादियों में इसलिए, लेखनी से चेतना…
Continue Reading
12

मातृभाषा को पसंद कर शेयर कर सकते है