Archives for व्यंग्य

Uncategorized

आप “ई” नहीं है तो कुछ भी नहीं है

  आप वर्तमान दुनिया में “ही”(HE) है या “शी”(SHE) है इससे कोई फर्क नहीं पड़ता, यदी आप “ई” नहीं है तो कुछ भी नहीं है । चौंकिए मत, “ई” वह…
Continue Reading
Uncategorized

विवेक !

नेता व साधु के बीच यदि कही मैत्री भाव की अनुभूति हो तो समझ ले कि दोनों के बीच "विवेक पूर्ण " समझौता है! इसी विवेक का इस्तेमाल हम अपने…
Continue Reading
Uncategorized

नहीं सुने वो सब गुने

  सुख से सम्बन्धित बातें तो बहुत सारी की जा सकती हैं लेकिन कुछ बातें अनुभव की करी जाए तो उसका आनंद अलग है । लोग कहते है कि आंखों…
Continue Reading
Uncategorized

खामोश! प्रयोग जारी हैं

यह तो सामान्य सी बात है और सभी को पता होना चाहिए लेकिन नहीं, शायद आम आदमी इन गहरी बातों को नहीं समझ सकता और नही मुझ जैसे मूढ़ मति…
Continue Reading
Uncategorized

कोलकाता की वो पुरानी बस और डराने वाला टिकट….!!

tarkesh ojha कोलकाता की बसें लगभग अब भी वैसी ही हैं जैसी 90 के दशक के अंतिम दौर तक हुआ करती थी। फर्क सिर्फ इतना आया है कि पहले जगहों…
Continue Reading
Uncategorized

फ़ेसबुकिया संसार

फेसबुक की दुनिया ने देखो,  ये कैसा गजब ढाया है! शाम को ही सोने वाले पप्पू को, सारी रात जगाया है!! फ्रेंड रिक्वेस्ट एक्सेप्ट होते ही, ये मैसेंजर में घुस…
Continue Reading

मातृभाषा को पसंद कर शेयर कर सकते है