Archives for काव्यभाषा

Uncategorized

महकते खतो मे…

महकते खतो मे पैगामे उल्फत हो जरूरी तो नही। खूबसूरत हाथों मे  किस्मत भी हो जरूरी तो नही। हर प्यार भरी नजर  मोहब्बत की हो जरूरी तो नही। अच्छे लोगो…
Continue Reading
Uncategorized

हिंदी हूँ मैं

हिंदी हूँ मैं हिंदी भारत के माथे की बिंदी। कभी आसमान पर कभी रसातल पर घूमती अतरंगी हिंदी हूँ मैं हिंदी।। मुझे छोड़कर सेमिनारों में चलते अंगरीजी अक्षर न्यायालय के…
Continue Reading
Uncategorized

ये मेंहदी

हाथों का श्रंगार ये मेंहदी। बाबुल का प्यार ये मेंहदी।। जैसे - जैसे ये गहरी होती, बनें प्रीत कि हार ये मेंहदी।। मेंहदी हाथों में शोभित हो, दे जाती आकार…
Continue Reading
Uncategorized

मकर संक्रांति का पर्व

14 जनवरी को ये दिन पवित्र पर्व के रूप में पूरे देश में "मकर संक्रांति के रूप में मनाया जाता है, ये दिन का भारतीय खगोल, ज्योतिष, भौगोलिक, धार्मिक एवं…
Continue Reading
Uncategorized

जीवन

जब जब भी अन्याय हो होना चाहिए प्रतिकार अब शोषक चाहे अधर्मी हो या हो फिर सरकार जीने का हक सबको है है सब परमात्मा की सन्तान फिर किसी को…
Continue Reading

मातृभाषा को पसंद कर शेयर कर सकते है