Archives for काव्यभाषा

Uncategorized

अनुराग भरा जिस जीवन में 

अनुराग भरा जिस जीवन में होता भावों का संचार वहीं तब रिश्तों की बगिया महकेगी जब अनुराग भरा हो जीवन में है धन्य धरा वो ही केवल जहां हर पल…
Continue Reading
Uncategorized

करम

करम करे न करे हमपे ये है काम उसका दिल पुकारता है हर घड़ी बस नाम उसका ========================== दस्तक जब भी होती है मेरे दरवाज़े पर मैं समझता हूँ आया…
Continue Reading
Uncategorized

आचरण

जैसा आचरण आप करोगे वैसा बच्चे कर पाएंगे तुम सदमार्ग पर चलकर देखो बच्चे भी वही आ जाएंगे बडो का अनुसरण करना बच्चों की पुरानी आदत है बडो के पदचिन्हों…
Continue Reading
Uncategorized

आँसू 

दिल की दीवारें जब दरकी रिस रिस जल की बूँदे सरकी। पीड़ा के बदरा मंडराये अश्रु नयन ये रोक न पाये। आँसू आखों का मौन तोड़ यह गिरा नयनो की…
Continue Reading

मातृभाषा को पसंद कर शेयर कर सकते है