Archives for काव्यभाषा

Uncategorized

अंतरात्मा

अंतरात्मा जो कहे वही कीजिए काम सबसे बड़ा जज वही वही बसे है राम अंतरात्मा में झांककर पहचान लीजिए स्वयं को सबसे बड़ा दर्पण वही वही बसे है चारो धाम…
Continue Reading
Uncategorized

चलो कुछ पहल करते हैं

चलो कुछ पहल करते हैं हसीन कुछ पल करते हैं साथ तुम्हारा हमारा रहे मुश्किलें बड़ी,हल करते हैं हाथ एकदूजे का बटाकर खड़ा कोई महल करते हैं जिंदगी में कुछ…
Continue Reading
Uncategorized

माँ

माँ से बिटियाँ का स्नेह होता है लाजवाब बिटियाँ को सुलाती अपने आँचल में लगता है जैसे फूलों के मध्य पराग हो झोली में । माँ की आवाज कोयल सी…
Continue Reading
Uncategorized

मोहब्बत दिल से होती है

मोहब्बत सूरत से नहीं होती है। मोहब्बत तो दिल से होती है। सूरत खुद प्यारी लगने लगती है। कद्र जिनकी दिल में होती है।। मुझे आदत नहीं कही रुकने की।…
Continue Reading
Uncategorized

रोटी को अमेरिका-जापान घुमाया जाता है

रोटी को भी बहलाया फुसलाया जाता है जब आग के दामन से उसे बचाया जाता है रोटी प्रजातंत्र का बहुत शातिर खिलाड़ी है तभी तो इसे भरे पेट में खिलाया…
Continue Reading
Uncategorized

कवि हो तुम

गौर से देखा उसने मुझे और कहा लगता है कवि हो तुम नश्तर सी चुभती हैं तुम्हारी बातें लेकिन सही हो तुम कहते हो कि सुकून है मुझे पर रुह…
Continue Reading

मातृभाषा को पसंद कर शेयर कर सकते है