हल्दीघाटी समर

Read Time4Seconds

babulal sharma
हल्दीघाटी समरांगण में,
सेना थी दोनो तैयार।
मुगलों का भारी लश्कर था,
इत राणा,रजपूत सवार।

भारी सेना थी अकबर की,
.        सेनापती मुगलिया मान।
भीलों की सेना राणा की,
.      अरु केसरिया वीर जवान।

आसफ खाँन बदाँयूनी भी,
.     लड़ते समर मुगलिया शान।
शक्ति सिंह भी बागी होकर,
.     थाम चुका था मुगल मचान।

राणा अपनी आन बान की,
.        रखते आए ऊँची शान।
मुगलों की सेना से उसने,
.      कीन्हा युद्ध बड़ा घमसान।

मुगल सैन्य विचलित जब होती,
.         धीरज दे कछवाहा मान।
हाथी के हौदे पर बैठा,
बीच समर जैसे शैतान।

राणा कीका लड़े समर में,
.        होकर चेतक पीठ सवार।
भारी भरकम कर ले भाला,
.       एक हाथ थामें तलवार।

पूँजा संगत भील लड़ाके,
.      बरछे तीर संग तलवार।
अजब शौर्य था भीलों का,
.     कटने लगे मुगल सरदार।

भीलों के तीरों की वर्षा,
.        जैसे मेघ मूसलाधार।
भगदड़ मचती मुगल सैन्य में
.      भील लड़ाके छापामार।

सूरी हाकिम खान दागता,
.           तोपें गोले बारम्बार।
तोप सामने जो भी आते,
.        मुगलों की होती बरछार।

तोप धमाके भील लड़ाके,
.       मुगल अश्व हाथी बदकार।
मानसिंह बेचैन हो गया,
.       उत काँपे अकबर दरबार।

अफगानी वो वीर तोपची,
.        राणा का था बाँया हाथ।
उसने अपना धर्म निभाया,
.         मरते दम राणा के साथ।

जोश भरा जाता वीरों में,
.     सुन सुन राणा की ललकार।
चेतक की टापों से होते,
.        घोड़े मुगल हीन बदकार।

भारी मार मची समरांगण,
.          जूझे योद्धा वीर तमाम।
मुगलों ने तब युक्ति निकाली,
.       बचे मुगल योद्धा इस्लाम।

उभय पक्ष रजपूते मरते,
.     देख चकित मुगलिया चाल।
रक्त उबल आया राणा का,
.       आँखें हुई क्रोध से लाल।

किया इशारा तब चेतक को,
.      चेतक ने भर लई उछाल।
धरी टाप मान गज मस्तक,
.      राणा ने फेंका तब भाल।

गज हौदे में छुपा मान यों,
.        खाली गया वीर का वार।
हस्तिदंत असि लगकर घायल,
.       हुआ अश्व चेतक लाचार।

भाला दूर गिरा था जाकर,
.        मर गए मुगल वहीं बाईस।
थर थर काँपे मान कछावा,
.   अब की प्राण बचे अवनीश।

इकला राणा मुगल घनेरे,
.       खूब लड़ा रण में रणधीर।
जित तलवार चले राणा की,
.     गिरती वहीं मुगल शमशीर।

टिड्डी दल सी मुगल सैन्य थी,
.       कटे बीस आते पच्चीस।
काट काट कर राणा थकते,
.    सहस्त्र मुगल हुए बिन शीश।

राणा घायल थकित समर में,
.         चेतक होता लहूलुहान।
झाला मान वंश बलिदानी,
.        आया बीच समर में मान।

राणै का सिरछत्र सँभाला,
.         बचै वीर मेवाड़ प्रताप।
अमर हुआ राणा के बदले,
.     निज कुरबानी देकर आप।

मुगलों की भारी सेना अरु,
.       मक्कारी की चलते चाल।
हल्दीघाटी रक्तिम हो गई,
.       रजपूती सेना थी काल।

दशा देख राणा चेतक की,
.         करें पलायन ईश सहाय।
नाला आया फाँदाँ चेतक,
.        शान बचाये प्राण गवाँय।

आन बान को खूब निभाया,
.     चेतक स्वामिभक्त बलवान।
राणै नैन मेघ से झरते,
.    चेतक सखा वीर वरदान।

राणा चेतक गर्दन लिपटे,
.       वा  रे  एकलिंग दीवान।
जब तक धरती सूरज चंदा,
.      राणा-चेतक अमर निशान।

पीछा करते आए सैनिक,
.    शक्ति सिंह की पड़ी निगाह।
मार गिराये उनको शक्ता,
.       राणा हुए शक्ति आगाह।

शक्तिसिंह भ्राता से मिलते,
.        राणा मिले भुजा फैलाय।
चारों आँखें झर झर बहती,
.      आँसू जल चेतक नहलाय।

शक्ति बंधु प्रताप पाए थे,
.       राणा पाय शक्ति बलवान।
दो दो बेटे मातृभूमि के,
.        मेवाड़ी धरती धनवान।

राम-भरत सा मिलन अनोखा,
.     *जनम भोम* के हैं अरमान।
शक्ती ने घोड़ा निज देकर,
रखी धरा की आन गुमान।

युद्ध विजेता किसको कह दूँ,
.       धर्म विजेता शक्ति प्रताप।
ऐसे वीर हुए जिस भू पर,
.       हरते मातृभूमि संताप।

वन वन भटका था वो राणा,
.          मेवाड़ी  रजपूती  भान।
हरे घास की रोटी खाकर,
.      रखता मातृभूमि की आन।

धन्य धन्य मेवाड़ी धरती,
.        राणा  एकलिंग  दीवान।
गढ़ चित्तौड़ उदयपुर वंदन,
.          हल्दीघाटी  धरा महान।

नमन करूँ उन सब वीरों को,
.         राजस्थानी  छोड़ी  छाप।
नमन करूँ मँगरा चट्टानें,
.       चेतक की पड़ती थी टाप।

वीर छंद वीरों को अर्पित,
.      और समर्पित शारद माय।
भारत माता वंदन करता,
.        ऐसे वीर सदा निपजाय।

मन के भाव शब्द बन जाते,
.        लिखता शर्मा बाबू लाल।
चंदन माटी हल्दीघाटी,
.        उन्नत सिर मेवाड़ी भाल।

नाम– बाबू लाल शर्मा 
साहित्यिक उपनाम- बौहरा
जन्म स्थान – सिकन्दरा, दौसा(राज.)
वर्तमान पता- सिकन्दरा, दौसा (राज.)
राज्य- राजस्थान
शिक्षा-M.A, B.ED.
कार्यक्षेत्र- व.अध्यापक,राजकीय सेवा
सामाजिक क्षेत्र- बेटी बचाओ ..बेटी पढाओ अभियान,सामाजिक सुधार
लेखन विधा -कविता, कहानी,उपन्यास,दोहे
सम्मान-शिक्षा एवं साक्षरता के क्षेत्र मे पुरस्कृत
अन्य उपलब्धियाँ- स्वैच्छिक.. बेटी बचाओ.. बेटी पढाओ अभियान
लेखन का उद्देश्य-विद्यार्थी-बेटियों के हितार्थ,हिन्दी सेवा एवं स्वान्तः सुखायः

0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

तुम

Sun Dec 23 , 2018
तुम रूठना सही मनाने आऊंगा जिंदगी के खेल में हार जाऊँगा जो गम लील रहे खुशियाँ तेरी क़सम उन्हें दूर तुझसे भगाऊंगा मेरी आगोश में प्यासा मरे कोई मन्जूर दिल कैसे ये कर पाऊँगा आहवान करता हूँ जिंदगी तेरा तेरा साथ मरते दम निभाऊंगा कलकल करती भाव से मेरी कविता […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।