साहित्य संगम संस्थान दिल्ली द्वारा नव पदाधिकारी नियुक्ति,विशेषांक का आज होगा विमोचन

Read Time0Seconds

ss

साहित्य संगम संस्थान दिल्ली द्वारा छदोत्सव/बसंतोत्सव विशेषांक के मुख्य अतिथियों को साहित्य संगम संस्थान जबलपुर की आद छाया सक्सेना जी द्वारा दिनांक 18/04/2019 को आद प्रशांत करण जी,आद मीना भट्ट जी,आद चंद्रपाल सिंह जी,आद ब्रजेन्द्र सरल जी,आद राजीव डोगरा जी को विशेषांक पर अपना अमूल्य समय देकर कार्यक्रम के मुख्य अतिथियों के दायित्वों को ग्रहण कर संस्था को गौरवान्वित किये ,इन्हें अतिथि देवो भव स्मृति चिन्ह से नवाजा गया,ज्ञात हो की इससे पहले विशेषांक पर 30 प्रतिभाओं को जो इस आयोजन को सफल बनाने के लिये अपनी प्रस्तुति दिये उन्हे छंद राज/छंद सम्राज्ञी सम्मान से आद सरिता श्रीवास्तव जी के कर कमलो से नवाजा जा चुका है।साथ ही
आद छगनलाल विज्ञ जी द्वारा  दिनांक 18/04/2019 को इनकी सक्रियता व लग्नशीलता को देखते हुये साहित्य संगम संस्थान दिल्ली नवनियुक्त पदाधिकारी लता खरे व्याकरणगुरू,डॉ.मीना भट्ट संरक्षिका,
नवीन कुमार भट्ट समीक्षा नायक,रामजस त्रिपाठी दोहाशाला अधीक्षक,कैलाश मंडलोई
सह सचिव,राजेश कुमार तिवारी बोली विकास मंच प्रभारी,कृपाशंकर सिंह फेसबुक पटल उपाधीक्षक,रिखब चंद राँका बोली विकास मंच अधीक्षक पर पदाभार ग्रहण कराते हुये शपथ दिलाया गया साथ ही पदाधिकारियों को दायित्वों पे खरे उतरने व उज्जवल भविष्य की कामना की गई।आद आशीष कुमार पाण्डेय जी के करकमलों द्वारा विशेषांक का विमोचन दिनांक 19/04/2019 को किया जायेगा।

#नवीन कुमार भट्ट

 

0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

बजरंगी हो कमाल..

Fri Apr 19 , 2019
माता अंजनी के लाल,बजरंगी हो कमाल, महावीर महाभक्त रामजी के आज्ञाकारी हो, तीनों लोकों में तुम पूज्य,तुम सम न कोऊ दूज, थामें हाथ वज्र,ध्वजा श्रीराम के पुजारी हो, माता सीता के दुलार सारा जग करे प्यार, जय हो पवनकुमार तुम विशाल ह्रदयकारी हो, शत्रुओं के तुम काल,दुख हरते हर हाल, […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।