साहित्य संगम संस्थान दिल्ली द्वारा मीडिया ग्रुप का श्री गणेश

Read Time6Seconds

IMG-20190516-WA0030

साहित्य संगम संस्थान दिल्ली द्वारा मीडिया ग्रुप का श्री गणेश आद राजेश पुरोहित जी द्वारा किया गया,इस आयोजित कार्यक्रम में सा.सं.संस्थान के अध्यक्ष राजवीर सिंह मंत्र जी,नवल किशोर,दीपाली पाण्डेय, शिवम यादव,सरोज ठाकुर,अरूणश्रीवास्तव,भावना
दीक्षित,छगनलाल,कल्पना ख़याल ,कुमुद श्रीवास्तव,कैलाश मंडलोई,रामजस त्रिपाठी,मनोज मनु और संगम के परिवार ने इस आह्वान में शुभकामनाएं दी,अध्यक्ष महोदय जी अपने विचार को साझा करते हुये बताये कि
*साहित्यक्रांति के बाद/साथ अब सूचनाक्रांति की बारी आई है । मीडिया को भाई-भतीजेवाद और बिकाऊ तथा कुछ विशिष्ट लोगों से बाहर निकालकर जन-जन तक पहुँचाने का कार्य साहित्य संगम संस्थान के राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी आ०राजेश पुरोहित जी सहित अनुज शिवम यादव और अनुज नवीन कुमार भट्ट नीर करने जा रहे हैं । गुरु वशिष्ठ के साथ ये राम-लखन की जोड़ी मीडिया में व्याप्त ताड़का का वधकर उटित और आवश्यक  मूल्यों का संस्थापन करेगी । मीडिया बाजारवाद की ओर अग्रसर है, खरीद-फरोख्त का रावण इसके सिर चढ़कर बोल रहा है । इस पुनीत कार्य में आप सबका सहयोग आपेक्षित है । क्योंकि आप सभी के सहयोग के बिना फिर यह कुछ ही लोगों तक सीमित रह जाएगी । जबकि उद्देश्य सूचनाक्रांति को जन-जन तक पहुँचाना है । इस मीडिया का माध्यम ई तकनीकि होगी । अर्थात् घर बैठे अपने क्षेत्र के उन समाचारों और साहित्यकारों से दुनिया को परिचित कराना जो राष्ट्रवादी हैं और शिवसंकल्प कर साहित्य सृजन कर रहे हैं । लक्ष्य मीडिया में आदर्शों की स्थापना का है । जो-जो करणीय है, जो होना चाहिए वह हो । वह ही मात्र न होता रह जाए जो कुछ लोगों की योजना और सुनियोजन का उद्देश्य पूर्ण करे । अतः संसार की उन समस्त रचनात्मक शक्तियों का आह्वान है जो सूतनाक्रांति में आपेक्षित सुधार चाहते हैं । अतः इस कार्य हेतु सिर्फ वे ही नवनिर्मित समूह में लिंक के जरिए जुड़ें जो इसमें कुछ कर गुजरना चाहते हैं । राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी महोदय समूह में प्रेषित समाचारों को समय-समय पर समाचार पत्रों में मुद्रित भी कराएँगे साथ ही पत्रकार बंधु अपने समाचार फेसबुक के समाचार समूह में भी पोस्ट करें । जिसका लिंक नीचे दिया जा रहा है । समाचार साहित्य संगं संस्थान के फेसबुक समूह का लिंक https://www.facebook.com/groups/2389887347907270/
व्हाट्स ऐप समूह पर कार्य और सहयोग करने के लिए अधोलिखत लिंक को क्लिक करें –https://chat.whatsapp.com/E1YIZQ8BKpKGRJc1ATfxbL
साथ डाँ भावना दीक्षित जी से पूँछनें पर बताया गया की
*साहित्य संगम संस्थान की कवियत्री कुमुद श्रीवास्तव वर्मा कुमुदनी नें आकाशवाणी उत्तर प्रदेश पर “घर ऑगन”  कार्यक्रम में अपनीं कविताओं की शानदार प्रस्तुति दी **
साहित्य संगम संस्थान की  हर दिल अजीज कवियत्री कुमुद श्रीवास्तव वर्मा “कुमुदनी”  जी का  आज आकाशवाणी के द्वारा अपने मशहूर प्रोग्राम  “घर आंगन” कार्यक्रम के लिए इंटरव्यू लिया गया, और साथ ही  उनकी कविताओं की रिकॉर्डिंग भी की गईं। जिसे आकाशवाणी के द्वारा  २४ मई को घर आँगन कार्यक्रम में  प्रसारित  किया जायेगा।
संगम समाचार एजेंसी को दिए अपनें इंटरव्यू में  आदरणीय कवियत्री महोदया  कुमुद जी ने संवाददाता से बातचीत करते हुए  बताया,  कि उनकी  कविताओं की रिकार्डिंग  को सभी श्रोतागण  एवं उनके.चाहने वाले   २४  मई को  घर आँगन कार्यक्रम में सुन सकेंगे |

नवीन कुमार भट्ट नीर- बड़े साहर्ष खुशी की बात है कि साहित्योत्थान के साथ समाचार का दौर वर्तमान समय का सच का आईना है निश्चित ही यह मीडिया ग्रुप अपने पथ पर अव्वल होकर नई दिशा प्रदान करेगा।

0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

कशिश' का विमोचन कल

Mon May 20 , 2019
इंदौर । हिंदी और उर्दू के बेहतरीन संगम और चुनिंदा नज़्मों को इंदौर के लेखक डॉ.वासीफ काज़ी ने पुस्तक ‘कशिश’ के रूप में सृजन किया,संस्मय प्रकाशन द्वारा प्रकाशित पुस्तक कशिश का विमोचन मंगलवार को इंदौर एबी रोड़ स्थित डीक्यू कैफे में साहित्यकारों के बीच होना है ।      कवि […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।