सय्या झूठों का बड़ा सरताज निकला !

Read Time2Seconds

pradeep upadhyay

लोग कहते हैं कि मौन रहने से बेहतर है कि आप मुखर रहकर अपनी बात कहें।यानी बोलना जरूरी है वरना यदि मौनी बाबा बनकर रह गए तो आपकी कहीं दाल गलने वाली नहीं !लोग यह भी कहते हैं कि जब भी बोलो सोच-समझकर बोलो।उनकी बात तो ठीक है लेकिन जब बिना सोच-विचार कर कोई बात कहेंगे तो वह सत्य के करीब होगी और जहाँ सत्य उद्घाटित होता है वहाँ बड़े-बड़े हंगामे खड़े हो जाते हैं तब तो झूठ बोलना ही ज्यादा कारगर होगा न!क्योंकि झूठ के पैर नहीं होते हैं बल्कि पंख होते हैं, शायद इसीलिए वह हरेक जगह विचरण,संचरण कर लेता है।

हाँ, जब आपसे पूछा जाएगा कि आपने आज दिनभर में सच कब बोला तो आप सोच में पड़ जाएंगे, वहीं यदि यह प्रश्न किया जाएगा कि आपने झूठ कब बोला था तो सीधा सा जवाब होगा कि प्रातः काल से ही घर-परिवार में झूठ की शुरुआत करते हुए अपने कार्यस्थल और प्रत्येक ऐसी जगह जहाँ व्यवहार करना होता है, झूठ ही बोलना पड़ता है।कहते भी हैं कि झूठ बोलना मजबूरी है, झूठ के बिना काम चल नहीं सकता।एक बार सच नहीं बोलेंगे तो काम चल जाएगा लेकिन यदि झूठ नहीं बोले तो हर काम में रूकावट ही रूकावट!बिना झूठ के जीवन की गाड़ी कहाँ चल पाती है।कभी-कभी ही सत्य के प्रयोग कर लेते हैं लेकिन तब उसकी बड़ी कीमत भी चुकाना पड़ती है।हाँ, हम इस बात का कोई रेकार्ड नहीं रखते कि दिन,सप्ताह, मास और वर्ष में हमने कितना झूठ बोला।यह तो अमेरिकी मीडिया का दिमागी फितूर है जिसने अपनी रिपोर्ट में दावा किया है कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने दो साल में आठ हजार एक सौ अट्ठावन बार झूठ बोला।पहले साल दो हजार और दूसरे साल छः हजार से अधिक बार!यानी पहले साल में रोजाना औसतन छः झूठ और दूसरे साल तक इसकी महत्ता को समझते हुए तीन गुना के करीब सत्रह बार।अर्थात उन्होंने भी राजनीति के क्षेत्र में सीख लेते हुए झूठ की महत्ता को समझ लिया।

सत्य के प्रयोग पर तो एक ही महात्मा ने लिखने का साहस किया था लेकिन क्या झूठ के प्रयोग पर लिखने के लिए आज के महात्माओं से हम उम्मीद करें! वर्तमान परिदृश्य में इस बात पर शोध किया जा सकता है कि इंसान को झूठ बोलने की आवश्यकता क्यों पड़ती है।मुझे लगता है कि सत्य की आवाज दिल से निकलती है और झूठ की आवाज़ दिमाग से प्रस्फुटित होती है।अब जबकि इंसान सच से ज्यादा झूठ से प्रभावित होने लगा है, झूठ का ही यत्र-तत्र-सर्वत्र प्रयोग करने लगा है, झूठ की सीढ़ी ही प्रगति का मार्ग प्रशस्त करते हुए दिखाई देती है जबकि सत्य की राह कंटकाकीर्ण दिखाई देती है तब इस बात को मानना मजबूरी ही है कि इंसानी शरीर में दिल कमजोर अंग है और दिमाग बलशाली!यह तो अच्छा है कि हमारे देश में फैक्ट चैकर्स ऐसे कोई डेटा तैयार नहीं कर रहे हैं वरना फिर ये एक झूठ को सौ बार बोलकर सच बनाने वाले कैसे बच पाते और उनके बारे में यही कहा जाता कि- “सय्या झूठों का बड़ा सरताज निकला।”

डॉ प्रदीप उपाध्याय

देवास,म.प्र.

0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

गणतंत्र दिवस

Fri Jan 25 , 2019
हाथ तिरंगा लेकर गणतंत्र दिवस पर, मैं   गीत   देशभक्ति   के   गाता   हूँ। देश पर शहीद हुए जो,मुझे याद नही, लेकिन खुद को देशभक्त बताता हूँ । मैं  आज के भारत देश का युवा हूँ, तिरंगे के साथ सेल्फी खिंचवाता हूँ। मैं  बेशर्म  हूँ  बहुत  और  बेगैरत  भी, ऐसे मौकों पर […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।