यूँ ही नहीं बन जाता कोई उपन्यास सम्राट !

Read Time2Seconds

dfe4141e-8c6b-4d9b-a5a1-39d7d9559993
(व्यक्तित्व/मुंशी प्रेमचंद )

साहित्य की सघन वादियों में कदमों के निशान ऐसे ही नहीं छूटते , बहुत श्रम करना पड़ता है । कालजयी साहित्यकार वही होता है, जिसके कदमों के निशान देख जमाना रास्ता तय करे !

31 जुलाई 1880 को वाराणसी के पास लमही में अजायब राय और आनंद देवी के घर एक ऐसे ही साहित्यिक सूर्य का जन्म हुआ जिसकी विविध साहित्य रूपी रश्मियों से हिंदी साहित्य देदीप्यमान हो उठा ।

8 वर्ष की उम्र में जिस बालक ने माँ को खोया; 16 की उम्र में उसी के सिर से पिता का साया भी उठ गया । दुःख, अभाव और संत्रास की त्रिविध पीड़ा ने उसी धनपत राय या नवाब राय को आगे चलकर उपन्यास सम्राट, यथार्थवाद के जनक और न जाने किन-किन विशेषणों से नवाज़ दिया ।
शायद इसी भाव के लिए उन्होंने लिखा था- “तुम जीते ,हम हारे। पर फिर लड़ेंगे ।”

सरस्वती और जमाना पत्रिका से कार्य की शुरुआत करने वाले सरस्वती के इस पुत्र ने जमाना ही बदल दिया, सोजे वतन से राष्ट्र का विलाप सुनाने वाले ने सच ही पूरे राष्ट्र की आत्मा को अपने लेखनी में उतार दिया। किसानी जीवन का महा-आख्यानात्मक उपन्यास गोदान हो या फिर हंस के संवादकीय, मुंशी प्रेमचंद ने 8 अक्टूबर 1936 में देहत्याग से पहले ही इतनी लंबी रेखा खींच दी कि इसके शिराओं को ढूंढना आम लोगों के बस की बात नहीं । साहित्य के जानकार यह मानते हैं कि यह रेखा आज और लंबी ही होती जा रही है।

15 उपन्यास, 300 से अधिक कहानियाँ, 3 नाटक, 7 बाल उपन्यास और हजारों आलेख एवं संपादकीय ने साहित्य के जिस युगपुरुष को गढ़ा वे प्रेमचंद थे , वही प्रेमचंद जिन्होंने कहा था कि साहित्यकार देशप्रेम और राजनीति के पीछे चलने वाली सच्चाई नहीं है यह तो उसके आगे मशाल लेकर चलने वाली सच्चाई है ।

सच ही प्रेमचंद्र का साहित्य-भंडार विराट और विपुल है । स्त्री-विमर्श हो या दलित चेतना , प्रेमचंद ने सबके लिए एक मजबूत आधारशिला रखी । उनका फलक अति व्यापक है चाहे वह कायाकल्प हो, मंगलसूत्र हो, निर्मला हो ; या फिर कफन , बूढ़ी काकी और पूस की रात ।

फ़िल्मी दुनियाँ और मायानगरी की चकाचौंध में आँखें चौंधियाती नई पीढ़ी को ध्यान रखना चाहिए कि प्रेमचंद बिना तनख्वाह लिए महज 2 महीने में वहाँ से इसलिए लौट आए कि वहाँ की चमक-दमक और आबो-हवा उन्हें लेखनी के अनुरूप नहीं लगी थी । कायाकल्प में शायद अपने बारे में ही लिखा था- “सोने को मुलम्मे की जरूरत नहीं होती ।”
यही लेखकीय पक्षधरता, यही जनसरोकार और यही साधक-स्वभाव प्रेमचंद के महनीय साहित्यिक अवदान का उत्स है ; और इसी सुमेल ने उन्हें उपन्यास सम्राट और वह सब बनाया जो अन्य महान साहित्यकारों को भी मिल न सका ।

मातृभाषा परिवार की तरफ से इन्हें विनम्र श्रद्धांजलि !
#कमलेश कमल
(साहित्य संपादक)

0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

ओमप्रकाश क्षत्रिय सम्मानित

Wed Aug 1 , 2018
रतनगढ़ | प्रतिवर्ष बालसाहित्य संस्थान अल्मोड़ा उत्तराखंड द्वारा अखिल भारतीय स्तर पर बालकहानी प्रतियोगिता आयोजित की जाती है.  इस प्रतियोगिता में विभिन्न स्तर पर बालकहानियां को आमंत्रित कर आयोजक समिति द्वारा एवं बच्चों द्वारा मूल्यांकित कहानियों को पुरस्कृत किया जाता है.  इस वर्ष 2018 की अखिल भारतीय राजेंद्र सिंह बिष्ट […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।