मीरा की प्रीत

3
Read Time5Seconds

rakhi sinh
ओढ़कर श्याम के रंग की ओढ़नी
इस कदर आज मीरा दिवानी हुई,
भूलकर वो जहां प्रीत की रीत में
प्रेम की एक पावन कहानी हुईl

छोड़कर महल,त्याग सब कुछ दिया
प्रीत की डोर से बाँध उसको लिया,
बोल मीठे हुए खुद हुई बाँसुरी
श्याम के प्रेम में बस रहे आतुरी,
नैन के नेह से गीत सारे लिखे
अश्क उसके वही फिर निशानी हुई…l
ओढ़कर श्याम के….ll

ढूंढती फिर रही है उसे हर गली
प्रीत की बावरी-सी बयारें चली,
सोचकर बस तुझे घूंट विष का पिया
याद कर-कर तुझे टूटता है जिया,
पावसों-सी बरसती रही आंख है
प्रीत ये मेघ का आज पानी हुई…l
ओढ़कर श्याम के….ll

श्याम को हर गली आज गाती फिरे
सांवरा है उसी का बताती फिरे,
प्रेम की जोगिनी आज सागर हुई
श्याम में डूबती प्रीत गागर हुई ,
लिख रही श्याम को शब्द में इस तरह
प्रीत उसकी सभी से सुहानी हुईl

ओढ़कर श्याम के रंग की ओढ़नी
इस कदर आज मीरा दिवानी हुई,
भूलकर वो जहां प्रीत की रीत में,
प्रेम की एक पावन कहानी हुईll

                                                        #राखी सिंह ‘शब्दिता'

परिचय : राखी सिंह का कलम नाम `शब्दिता` हैl आप फिलहाल बीएससी में अध्ययनरत हैंl आपका बसेरा गाँव नगला भवानी(खन्दौली) आगरा में हैl राखी सिंह की जन्म तिथि-१० अगस्त १९९९ हैl लेखन कार्य आपका शौक हैl

0 0

matruadmin

3 thoughts on “मीरा की प्रीत

  1. Rakhi bahut khubsurat rachna…. aise hi likhti raho…. God bless you….☆☆☆☆☆☆☆☆☆☆☆☆☆☆☆ sahity is voice of internal soul….RUPESH kumar …… mai Kya likhu… aapki rachna ke aage mere shabd hi kam pad jayege…..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

बिटिया

Sat Nov 18 , 2017
गूँज उठी थी किलकारी मेरे आँगन में, चांदनी की तरह शीतल-सी कली की तरह नाजुक-सी, मेरी प्यारी नन्हीं-सी बिटिया रानी थी। सौभाग्य है हमारा, घर-घर दी बधाइयां मेरा आँगन महकाया, बेटी तो घर की रोशनी होती हैं। सब कहते हैं दिखती हैं, माँ जैसी होती हैं माँ का सहारा, और […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।