Advertisements

pramod

बेटा अपने वृद्ध पिता को रात्रि भोज के लिए अच्छे रेस्टॉरेंट में लेकर गया। खाने के दौरान वृद्ध पिता ने कई बार भोजन अपने कपड़ों पर गिराया। रेस्टॉरेंट में बैठे खाना खा रहे दूसरे लोग वृद्ध को घृणा की नजरों से देख रहे थे,लेकिन वृद्ध का बेटा शांत था।
खाने के बाद बिना किसी शर्म के बेटा, वृद्ध को वॉशरुम ले गया। उनके कपड़े साफ़ किए,उनका चेहरा साफ़ किया, उनके बालों में कंघी की,चश्मा पहनाया और फिर बाहर लाया।
सभी लोग खामोशी से उन्हें ही देख रहे थे। बेटे ने बिल दिया और वृद्ध के साथ बाहर जाने लगा।
तभी डिनर कर रहे एक अन्य वृद्ध ने बेटे को आवाज दी और उससे पूछा ‘क्या तुम्हें नहीं लगता कि,यहाँ अपने पीछे तुम कुछ छोड़ कर जा रहे हो?’ बेटे ने जवाब दिया -‘नहीं सर, मैं कुछ भी छोड़कर नहीं जा रहा।’
वृद्ध ने कहा -‘बेटे, तुम यहाँ छोड़कर जा रहे हो, प्रत्येक पुत्र के लिए एक शिक्षा(सबक)और प्रत्येक पिता के लिए उम्मीद(आशा)।’
दोस्तों, आमतौर पर हम लोग अपने बुजुर्ग माता–पिता को अपने साथ बाहर ले जाना पसंद नहीं करते,और कहते हैं- क्या करोगे,आपसे चला तो जाता नहीं। ठीक से खाया भी नहीं जाता, आप तो घर पर ही रहो,वही अच्छा होगा।’
क्या आप भूल गए, जब आप छोटे थे और आप के माता–पिता आपको अपनी गोद मे उठाकर ले जाया करते थे। आप जब ठीक से खा नहीं पाते थे तो माँ आपको अपने हाथ से खाना खिलाती थी। खाना गिर जाने पर डाँट नहीं, प्यार जताती थी। फिर वही माँ- बाप बुढ़ापे में बोझ क्यों लगने लगते हैं?
माँ-बाप भगवान का रुप होते हैं, उनकी सेवा कीजिए और प्यार दीजिए …..क्योंकि,एक दिन आप भी वृद्ध होंगे, फिर अपने बच्चों से सेवा की उम्मीद मत करना।

                                                                     #प्रमोद बाफना

परिचय :प्रमोद कुमार बाफना दुधालिया(झालावाड़ ,राजस्थान) में रहते हैं।आपकी रुचि कविता लेखन में है। वर्तमान में श्री महावीर जैन उच्चतर माध्यमिक विद्यालय(बड़ौद) में हिन्दी अध्यापन का कार्य करते हैं। हाल ही में आपने कविता लेखन प्रारंभ किया है।

(Visited 105 times, 1 visits today)
Please follow and like us:
0
http://matrubhashaa.com/wp-content/uploads/2017/03/pramod-1.jpghttp://matrubhashaa.com/wp-content/uploads/2017/03/pramod-1-150x150.jpgmatruadminआलोचनादेशमातृभाषासंस्कारbafana,pramodबेटा अपने वृद्ध पिता को रात्रि भोज के लिए अच्छे रेस्टॉरेंट में लेकर गया। खाने के दौरान वृद्ध पिता ने कई बार भोजन अपने कपड़ों पर गिराया। रेस्टॉरेंट में बैठे खाना खा रहे दूसरे लोग वृद्ध को घृणा की नजरों से देख रहे थे,लेकिन वृद्ध का बेटा शांत था। खाने...Vaicharik mahakumbh
Custom Text