मर्म  छुपा  लूँगा  दिल  में

Read Time4Seconds

himanshu mitra

ह्रदय  को  वो  चाहे जितना  समझा ले,
फिर भी तो  उसको  थोड़ा  दुःख  होगा।
देखकर  हाथों  की  गीली  मेहँदी  को,
आज स्वयं उसका मुख भी बेमुख होगाll 

            

कंधे पर जो हाथ कभी  रखती  थी वो,
हरी सौ चूड़ियों  से  कल भर  जाएगा।
चढ़ा हुआ जो आंख तलक  एक आँसू,

छोड़ नयन को वो भी अब गिर जाएगाll 

पहनकर  लाल  रेशमी  जब  वो  जोड़ा,
श्रृंगार सोलहवां कर रूप  सँवर  आएगी।
देखकर  सौन्दर्य आज उस  दुल्हन का,
ये रात  चांदनी  भी  कुछ  शर्म  जाएगीll 

झनक-झनक कर पायल भी जब उसकी,

धुन छेड़  कर  ये बिछड़न  राग सुनाएगी।
सुनकर गीत स्वयं की पायल के  मुख से,
सुप्त  स्मृतियाँ ह्रदय में घर कर जाएंगीll 

भरा  मांग  में उसकी  जो सिंदूर  ये  देखो,
आज  पवित्रता   उसकी   और  बढ़ाएगा।
सृजन किया है जीवन भर जिन रिश्तों का,
रूप परिवर्तित उनका  ये   कर  गाएगा ll

         

लगी हुई  बिंदिया ये चाँद के  मस्तक  पर,

किसी के प्रति ये समर्पण  को  दर्शाती  है।
हुआ अधिकृत ये सब तन-मन भी उसका,
सात जन्मों  की  रूप-रेखा  समझाती हैll 

नई सुबह की नई किरण में वो आज,
तोड़ वादों को कर लेगी स्वयं विदाई।
चलना ही है इस चलनमय जीवन को,
उसने भी इस संसार की रस्म निभाईll 

           

करता हूँ अब अंतिम अधिकार समर्पित,
याद नही  मैं  अब  उसको  कर  पाऊंगा।
मर्म  छुपा  लूँगा  दिल  में,सच  कहता  हूँ,

अब   मैं  नही   किसी  को बतलाऊँगाll 

                                                                                                     #हिमांशु मित्रा’रवि’

परिचय: हिमांशु मित्रा उत्तरप्रदेश राज्य के शिवपुरी (लखीमपुर खीरी) में रहते हैंl आपकी उम्र २० वर्ष तथा स्नातक उत्तीर्ण हैंl आप हिन्दी में लिखने का शौक रखते हैंl  

0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

सावन की घटाएँ

Mon Jul 24 , 2017
सावन की घटाएँ, जैसे गौरी की अदाएं। पहले गरजती है, फिर वो चमकती है। घनघोर घटाएँ, फिर वो बरसती है। किसी के दिल को, ठंडक पहुँचाती है। पिया बिन गौरी के, दिल को जलाती है। पानी में भीग-भीग, तन जो हो गीला। मन मचल जाए, झूले जब झूला। ठंडी ये […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।