मगर देर से

Read Time6Seconds
jayati jain
ईश्वर को ढूढ़ने निकली थी मिला मुझे वो देर से
खुदा भी मिल जाता मुझे पर पता चला कुछ देर से ।
इत्तेफाक ही था जो निश्छल मुस्कुराहट देखने मिली
कहीं औऱ नहीं वह यहीं है पहचाना मगर देर से ।
अब तक मूरत मज़ार को उसका घर समझ रही थी
ये तो नाम के ठिकाने हैं सारे पता चला मगर देर से ।
गरीब भी झोली फैलता है अमीर भी हाथ फैलाता है
किसी की ख्वाहिशें पूरी नहीं यकीं हुआ मगर देर से ।
भक्त से भगवान बनने की काबिलियत है सभी में
खुद को खुदा बना सकते जाना है मैंने मगर देर से ।
भूखे नंगे बेघर सड़क किनारे मिल जाते हैं अक्सर
झूठे मंदिर मस्जिद के दानी सारे समझी मगर देर से ।
#जयति जैन “नूतन”
परिचय:-
युवा लेखिका, सामाजिक चिंतक, आलोचक
स्थायी पता- भोपाल 
शिक्षा /व्यवसाय- डी. फार्मा , बी. फार्मा , एम. फार्मा ,/ फार्मासिस्ट , लेखिका
विधा – कहानी , लघुकथा , कविता,  लेख , दोहे 
प्रकाशित रचनाओं की संख्या- 350 से ज्यादा रचनायें समाचार पत्रों व पत्रिकाओ में प्रकाशित 
प्रकाशित रचनाओं का विवरण – वर्तमान लेखन: सामाज़िक लेखन, दैनिक, साप्ताहिक अख्बार,  पत्रिकाये , 
चहकते पंछी ब्लोग, साहित्यपीडिया, शब्दनगरी,  www.momspresso.com व प्रतिलिपि वेबसाइट, international news and views.com (INVC) पर !
 सम्मान- “विश्व हिंदी रचनाकार मंच” द्वारा संचालित “रचनाकार प्रोत्साहन योजना” के अन्तर्गत “श्रेष्ठ नवोदित रचनाकार सम्मान” से सम्मानित !
 अंतरा शब्द शक्ति सम्मान 2018 से सम्मानित !
भारत के युवा कवि कवियत्री के तहत JMD पब्लिकेशन (दिल्ली ) दुआरा श्रेष्ठ युवा रचनाकार सम्मान से सम्मानित ।
अन्य उपलब्धि- बेबाक व स्वतंत्र लेखिका ! हिंदी सागर त्रेमासिक पत्रिका में ” अतिथि संपादक ” 
लेखन का उद्देश्य- समाज में सकारात्मक बदलाव !
साझा काव्य संग्रह
मधुकलश 
अनुबंध
प्यारी बेटियाँ
किताबमंच 
आगामी काव्य संग्रह – भारत के युवा कवि औऱ कवयित्रियाँ एवं कुछ अन्य ।
 अनगिनत ऑनलाइन व ऑफलाइन पत्रिकाओं में लगातार प्रकाशित हो रही हैं रचनाएँ ।
रानीपुर (जिला झांसी उप्र) की  पहली लेखिका होने का गौरव ।
लेखन के क्षेत्र में 2010 से अब तक ।
 
0 0

Arpan Jain

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

अखिल भारतीय स्तर पर बाल साहित्य सम्मानों हेतु आमन्त्रण

Sat May 12 , 2018
आकोला | “राजकुमार जैन राजन फाउंडेशन, आकोला (राज.) द्वारा अखिल भारतीय स्तर पर पिछले 12 वर्षों से नियमित प्रदान किये जा रहे बाल साहित्य सम्मानों  2018 हेतु अपनी उपलब्धियों का विवरण एवम सम्मान योग्य वरिष्ठ साहित्यकारों  के नामों की अनुशंषाएँ 20 सितम्बर 2018 तक सादर आमंत्रित है। निम्न सम्मान 13 […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।