ब्रह्माकुमारीज ने किया नये ज्ञान द्वारा नया भारत राष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन

Read Time0Seconds

IMG_20190729_161103_373
नई दिल्ली |

प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय के शिक्षा प्रभाग द्वारा नये ज्ञान द्वारा नया भारत विषय को लेकर डॉ अम्बेडकर इंटरनेशनल सेंटर के सभागार में राष्ट्रीय सम्मेलन आयोजित किया गया।जिसमें मुख्य अतिथि के रूप में केंद्रीय मानव संसाधन मंत्री डॉ रमेश पोखरियाल निशंक,विशिष्ट अतिथि यूजीसी के चेयरमैन डिंपी सिंह की मौजूदगी में स्वागत सम्बोधन करते हुए ब्रह्माकुमारीज संस्था के कार्यकारी सचिव व शिक्षा प्रभाग प्रमुख बीके मृतुन्जय भाई ने नई शिक्षा नीति में स्प्रिचुअल व वैल्यू एजुकेशन को स्थान देने का सुझाव दिया।उन्होंने शिक्षा व भोजन को मौलिक अधिकार में शामिल कर निशुल्क उपलब्ध कराने की बात कही।उन्होंने ब्रह्माकुमारीज संस्था का परिचय भी विस्तार से दिया और हिंदी को देशभर में अपनाने का सुझाव दिया।चर्चित लाईफ मैनेजमेंट स्पीकर बीके शिवानी ने कहा कि यदि हम अच्छा चाहते है तो अपने संस्कार बदले तभी अच्छी दुनिया बन सकती है।पहले घर मे बच्चे को संस्कार मिलते थे,शिक्षा विद्यालय में मिलती थी।आज घर संस्कार विहीन हो गए है।इमोशनल हैल्थ का ध्यान न रखने के कारण भारत अवसाद में पहले स्थान पर पहुंच गया है जो चिंताजनक है।अवसाद भारत मे म्रत्यु का दूसरा कारण सन 2022 तक बन जाएगा।
गुलबर्ग विश्वविद्यालय के कुलपति एस पी मिलकरी ने कहा कि समाज के समग्र उत्थान के दृष्टिगत ही नई शिक्षा नीति बनाई जानी चाहिए।उन्होंने ने कहा कि मूल संस्कार बच्चे को माता पिता से ही मिलते है जिसका प्रभाव बच्चे के जीवन पर जीवनभर रहता है।उन्होंने मेडिकल व इंजीनियरिंग के बच्चों में बढ़ते डिप्रेशन की जानकारी दी।
यूजीसी चैयरमैन धीरेंद्र पाल सिंह ने कहा कि नये भारत के लिए नई शिक्षा एक महत्वपूर्ण विषय है जिसके लिए भारत सरकार निरन्तर शिक्षा नीति में बदलाव पर काम कर रही है।उन्होंने मानव संसाधन मंत्री डॉ रमेश पोखियाल के इस ओर किये जा रहे प्रयासों की प्रशंसा की।नई शिक्षा के नये भारत को समझना पड़ेगा।आध्यात्म हमे जीवन जीने की कला सीखाता है और सकारात्मक दृष्टि विकसित करता है।हमे भटकाव का रास्ता छोड़कर रचनात्मक मार्ग पर भारत को लेकर चलना होगा।
नई शिक्षा नीति के लिए अभी तक एक लाख से अधिक सुझाव आ चुके है।नई शिक्षा नीति के लिए मूलभूत तत्व पर कसम शुरू हो चुका है।
अध्यक्षता कर रही बीके चक्रधारी दीदी ने कहा कि जब तक भारत मे आध्यात्मिक सोच विकसित नही होगी तब तक भारत गौरवमयी नही हो सकता।आज रोगियों ओर बन्दियों की बढ़ती संख्या भारत की अशांत व तनाव पूर्ण हालत को बयान करती है।स्वच्छता अभियान ठीक है लेकिन जो मानसिक गन्दगी बढ़ रही है उसको रोकने के लिए क्या किया गया।आज शराब की दुकानें निरन्तर खुल रही है,इनसे कैसे स्वच्छ भारत बन सकता है।ईश्वरीय विश्वविद्यालय का धेय यही है कि हम श्रेष्ठ बने।
बीके शुक्ला दीदी ने अपने आशीर्वचन करते हुए कहा कि नये भारत के निर्माण की कलम यानि पौध ब्रह्माकुमारीज संस्था के माध्यम से भारत मे ही नही दुनिया मे लग चुकी है।उन्होंने कहा कि आज की शिक्षा प्रणाली प्रसन्नता दायक नही है।बहुत अच्छे अच्छे भाई बहन भौतिक वाद से ग्रसित होकर डिप्रेशन का शिकार हो रहे है।यह सब अध्यात्म के माध्यम से ही ठीक हो सकता है।सम्मेलन के मुख्य अतिथि केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री डॉ रमेश पोखरियल निशंक ने कहा कि मुझे खुशी है प्रधानमंत्री के नये भारत के निर्माण के लिए नई शिक्षा नीति को लेकर ब्रह्माकुमारीज ने यह भव्य आयोजन किया है।उन्होंने बीके शिवानी के मानवीय मूल्यों से जुड़े उदबोधन की सराहना की।उन्होंने कहा कि शिक्षा किसी भी राष्ट्र की रीढ़ की हड्डी होती है इसलिए इसे मजबूत रखना जरूरी है।अपने को भूलने से जो जीवन मे खाई बनती है उसे पाटना जरूरी है।उन्होंने अपने सम्बोधन में नालन्दा,विक्रमशिला, जैसे पुरातन विश्वविद्यालयो को शिक्षा की आधार शिला रखने के लिए उल्लेख लिया।उन्होंने लार्ड मैकाले की शिक्षा पद्दति को काले अंग्रेज पैदा करने वाली बताया।उन्होंने इसे बदलने के लिए ही नई शिक्षा नीति का निर्माण किया जाना बताया।संस्कार विहीन व्यक्ति मरे हुए व्यक्ति की तरह है।
हर आदमी की अपनी प्रकृति होती है,अपनी प्रकृति से इधर उधर हुआ तो उसकी पहचान हो जाएगी।अपने धाराप्रवाह सम्बोधन में होने कहा कि जिसकी सोच छोटी है वह कभी बड़ा नही हो सकता।बड़ा होने के लिए बड़ी सोच होना जरूरी है।उत्तराखंड की ऐतिहासिक विरासत को सामने रखते हुए उन्होंने कहा कि भारत पहले भी विश्व गुरु था आज भी विश्व गुरु है।
उन्होंने ब्रह्माकुमारीज द्वारा दुनिया के 140 देशों में चलाये जा रहे विश्व परिवर्तन अभियान की मुक्त कंठ से प्रशंसा की।भारत के निर्माण में यदि कही जंक रूपी अवरोधक है,उसे दूर करना है।नई शिक्षा नीति के लिए आये एक लाख से अधिक सुझाव में से लगभग 60 प्रतिशत सुझाव पहले से ही नये शिक्षा प्रारूप में समाहित है।
डॉ निशंक ने जहां नई शिक्षा नीति में सुझाव की समय सीमा 15 दिन ओर बढाने का एलान किया वही बच्चों को प्रतिदिन एक लीटर पानी बचाने व एक पेड़ लगाने के नम्बर परीक्षा में जोड़ने की व्यवस्था लागू करने की घोषणा की।
इस सम्मेलन में राष्ट्रीय साहित्य अकादमी के पूर्व सदस्य डा योगेंद्र नाथ शर्मा अरुण ,पतंजलि विश्वविद्यालय के प्रति कुलपति डॉ महावीर अग्रवाल,साहित्यकार श्रीगोपाल नारसन ,समेत कई विश्वविद्यालयों के कुलपति, शिक्षा संस्थानों के अध्यक्ष, ब्रह्माकुमारीज संस्था से जुड़े भाई बहनों ने बड़ी संख्या में भाग लिया।- डॉ श्रीगोपाल नारसन एडवोकेट

0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

आरजू

Tue Jul 30 , 2019
  आरज़ू यार से अलविदा ना कहें। ख़्वाहिशें कुछ नहीं हम ज़ुदा ना कहें।-01 ★ रूह तनहाइयों में बसर कर रही, हम तपिश में वो ख़ुद को खुदा ना कहें।-02 ★ ज़िस्म जो सुर्ख़रू कल को ढल जाएगा, आज भी कल भी होंगे फ़िदा ना कहें।-03 ★ इक नशीला बदन […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।