बाढ का कहर

Read Time0Seconds
aashutosh kumar
मुझे राहत नहीं
निजात दिला दो
कोई तो सदा के लिए
बाढ का हल बता दो।
विज्ञान के इस युग में
कैसी यह नीति है
अचानक बाढ़ आ जाती
सिस्टम सोती रहती है।
सबकुछ बहा ले गया
जो तिनका-तिनका जोड़ा
प्रलंयकारी बाढ में अबतक
न जाने कितनों ने दम तोड़ा।
हर वर्ष दावे लाख मगर
नहीं होता कोई असर
बारिस आते ही सिर्फ
बाढ़ ढाती कहर-बस-कहर।
क्या क्या न सहना पड़ता
हर वक्त मौत के आगोश में रहना पड़ता
भोजन पानी और आवास के अभाव में
साँप विच्छु के संग भी रहना पड़ता।
वारिस आती भींगा जाती
धूप निकलती सूखा जाती
बाढ़ के इस दंश में
निर्दयी की भी आँसू निकल आती।
भूख प्यास से व्याकुल
टकटकी लगाये रहते है
पहले जान फिर पेट का ध्यान
में कितने रोज भूखे सो जाते हैं
कई सालो की कमाई
अन्न कपडे बह ले जाती
पानी खिसकने के बाद
अनेक रोग और मुसीबत दे जाती।

“आशुतोष”

नाम।                   –  आशुतोष कुमार
साहित्यक उपनाम –  आशुतोष
जन्मतिथि             –  30/101973
वर्तमान पता          – 113/77बी  
                              शास्त्रीनगर 
                              पटना  23 बिहार                  
कार्यक्षेत्र               –  जाॅब
शिक्षा                   –  ऑनर्स अर्थशास्त्र
मोबाइलव्हाट्स एप – 9852842667
प्रकाशन                 – नगण्य
सम्मान।                – नगण्य
अन्य उलब्धि          – कभ्प्यूटर आपरेटर
                                टीवी टेक्नीशियन
लेखन का उद्द्श्य   – सामाजिक जागृति

0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

महँगा वर

Thu Jul 18 , 2019
न खेती है , न बारी है , न घर है। फिर भी देखो कितना महँगा वर है।। मन में उमंग नहीं ,जीने का ढंग नहीं। जीवन के सागर में एक भी तरंग नहीं।। सभ्यता-संस्कार नहीं, सोच में निखार नहीं। आपस में प्यार नहीं, शिक्षित परिवार नहीं।। काला अक्षर भैंस […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।