दायित्वों से अनभिज्ञः युवा वर्ग

Read Time0Seconds

aashutosh kumar

ठाकुर बलदेव सिंह एक नाम ही नही वे सचमूच के ठाकुर हैं मेरा मतलब कर्म से है। दरअसल उनकी जमींदारी का रूतवा आज के दौर में भी बरकरार था।नौकर चाकर बंगला सरकार पर पहुँच क्या नही था उनके पास।बीते 4दशकों से उन्होने समय को अपने हिसाब से चलाया। कईयो को बनाया, मदद की कई लोगो की शादी, श्राद्ध आदि कार्यों में वे लगातार सहायता करते रहे है। उनके व्यक्तित्व की चमक आज भी बरकरार है। आज बीस साल बाद मुझे ठाकुर साहब के घर जाने और हालचाल जानने का अवसर मिला।क्योंकि मै बहुत दिनो पर घर आया था पहले जब कभी आता तो ठाकुर साहब बाहर होते या मै जल्दी में होता।लेकिन इस बार मन बना चुका था कि जरूर मिलूँगा आखिरकार उनके हवेली पर मै गया।उनको देखकर बहुत बडा झटका लगा । बुढापा उन पर हावी था।वे चल फिर नही पा रहे थे।आवाज घीमी पर रही थी।लेकिन सबसे ज्यादा अफसोस तब हुआ जब कोई अपना उनके आस पास नही था। उनके इर्द गिर्द वे लोग ही थे जिन पर उन्होने एहसान किए थे या जिनको उन्होने कार्य पर रखा था।देखकर जानकर मुझे गहरा धक्का लगा मै ठाकुर जी को बडी करीब से जानता था उनके मृदुस्वभाव से मै अच्छी तरह परिचित था।
दर असल ठाकुर साहब के चार संतान थे तीन लडका और एक लडकी सभी अच्छे पढे लिखे और अपनी अपनी पत्नी या पति के साथ अपनी अपनी दुनिया में मग्न थे।कभी कभार आते नौकरो को फरमाकर चले जाते।ठाकुर साहब की पत्नी जो एक धर्म कर्म करनेवाली महिला थी पाँच वर्ष पूर्व स्वर्ग सिधार चुकी थी।
अकेलापन और पारिवारिक झंझटो ने उन्हें अंन्दर से तोड दिया था।वे आज भी इस हालत में लोगो के मदद को तैयार रहते हैं पर शारीरिक असमर्थता और बढते उम्र ने लाचार कर दिया था।मुझ पर नजर पडते ही मुझे पहचान गए बीते दिनो की बातें वो करना चाह रहे थे। लेकिन आवाज नही निकल पा रही थी । मै उनकी इस पीडा को देख कर रोने लगा।इतना धर्म कर्म करने वाले व्यक्ति का यह हाल भला कैसे हो सकता है? वो इन्सान जिसने दूसरो के लिए तमाम उम्र लगा दी आज अपनो से दूर क्यों है?क्या बुजुर्ग की उपेक्षा आज कल का फैशन हो गया है? क्या मानवता दम तोडने लगी है? न जाने कितने सवाल मेरे दिमाग में चल रहे थे।जिसका जबाब मिल पाना मुश्किल है।
दरअसल आज कल का फैशन विलासिता उपकरण और तेज रफ्तार जिन्दगी में सभी लोग अपने घर के बुजुर्गो को भूलने लगे हैं।वे चंद रूपये चंद नौकर तो लगा देते फोन पर सूचना ले लेते लेकिन वक्त नही दे पाते जो निहायत ओछापन और उपेक्षा है। ये वो अवस्था है जहाँ माँ बाप या बुजुर्गो को समीप्य की जरूरत होती है ताउम्र जो माँ बाप कठिन से कठिन परिस्थितियों को झेलकर बच्चो की हर खुशी के लिए लगा देते है और जब उनकी सेवा और मीठे वचन की बारी आती है तो उन्हें चंद रूपये नौकर देकर उन्हे अकेलापन झेलने को विवश कर दिया जाता है।धीरे धीरे वो अंदर ही अंदर टूटते जाते हैं चिंतित रहने लगते और एक दिन उनकी हालत ठाकुर वलदेव सिंह जैसी हो जाती है।मै सोचते हुए यहभी महसूस किया कि आज के युवा पीढी सिर्फ अपनी सुख सुविधाओं को प्राप्त करना ही अपना फर्ज महसूस करने लगे है बोलने की शालीनता, लोकलाज और चरित्रिक गिरावट चरम पर है।सिर्फ चंद किताबी ज्ञान तो वे प्राप्त कर लेते है लेकिन सामाजिक, व्यवहारिक, सांस्कृतिक ज्ञान और परिवेश से अनभिज्ञ रहते हैं।जैसे बडो का आदर करना,उनके आर्दश को निभाना,विरासत की रक्षा करना,पर्व त्योहार,और सामाजिक कार्यो में रूचि रखना इन सब चीजों का ज्ञान उन्हें हास्टल या वोर्डिंग स्कूल में नहीं मिल पाता।इन सब ज्ञानो को प्राप्त करने के लिए आपको ग्रामीण परिवेश,सामाजिक परिवेश और सांस्कृतिक परिवेश की जरूरत होती है जिसे बडो के साथ रहकर ही प्राप्त किया जा सकता है ताकि बोलने के तरीके मर्यादा और सम्मान की भावना जागृत हो सके।
कालान्तर में भी गुरूकुल हुआ करती थी जिसमें इस तरह की शिक्षा दी जाती थी जिसका वर्णन रामायण और महाभारत में मिलता है।बाल्मिकी आश्रम में दशरथ के पुत्रों और महाभारत में आआर्य द्रोण के आश्रम में पाण्डव तथा कौरवो ने शिक्षा ग्रहण की थी। मर्यादा पुरूषोत्तम श्री राम और वीर अर्जुन की कहानी आज भी सभी के लिए प्रेरणादायी बनी हुई है।कहने का तात्पर्य यह है कि शिक्षा का स्तर सिर्फ स्लेबस को पूरा करने से नही हो जाता शिक्षित तभी माना जा सकता जब वह सभी क्षेत्रो में अपनी जिम्मेदारियो को निभा सके और सभी परिवेश में अपने आप को ढाल सके । समाज और परिवार के सभी सदस्यो को खुश रख सके ऐसे व्यक्ति ही सही मायने में शिक्षत है वरना ठाकुर वलदेव सिंह का बच्चा।।

“आशुतोष”

नाम।                   –  आशुतोष कुमार
साहित्यक उपनाम –  आशुतोष
जन्मतिथि             –  30/101973
वर्तमान पता          – 113/77बी  
                              शास्त्रीनगर 
                              पटना  23 बिहार                  
कार्यक्षेत्र               –  जाॅब
शिक्षा                   –  ऑनर्स अर्थशास्त्र
मोबाइलव्हाट्स एप – 9852842667
प्रकाशन                 – नगण्य
सम्मान।                – नगण्य
अन्य उलब्धि          – कभ्प्यूटर आपरेटर
                                टीवी टेक्नीशियन
लेखन का उद्द्श्य   – सामाजिक जागृति

0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

पाक पीड़ित हिन्दुओं को सुरक्षा व नागरिक अधिकार मिलें : विहिप

Thu Jun 27 , 2019
नई दिल्ली | विश्व हिन्दू परिषद ने मांग की है कि पाकिस्तान द्वारा पीड़ित हिन्दुओं के धार्मिक, सामाजिक व मानवाधिकारों की रक्षा के साथ उन्हें भारत में नागरिक अधिकार दिए जाएं. परिषद् के केन्द्रीय मंत्री (विदेश विभाग) श्री प्रशांत हरतालकर ने एक प्रेस वार्ता को सम्बोधित करते हुए यह आज भी […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।