दंभ

Read Time9Seconds
rishabh radhe
होकर भुजंग ने दंभ ग्रस्त,राजा के पैर में काट लिया,

राजा पल भर ही तड़पा,विष ने जीवन को घेर लियाl
वो राजा कोई और नहीं,वो तेज प्रतापी परीक्षित था,
जो गर्भ में मरकर भी साथी श्रीकृष्ण कृपा से जीवित थाl
लेकिन वो सर्प था दंभ ग्रस्त,अपने विष में वो बड़ा मस्त,
राजा को उसने ज्यों काटा,राजा होने लगा सुस्तl
जब देखा पितृ को लस्त-पस्त,तब फूटा पुत्र का क्रोध वहाँ,
करके वो भीष्म को याद वहाँ,गरजा जनवेद सिंह वहाँl
उसने मख किया अपावन एक,आहुति से आते सर्प वहाँ,
वो क्रोध से जलता दावानल,करता जाता था भस्म वहाँl
अब मख ज्यों-ज्यों आगे बढ़ने लगा,सर्पों के आने लगे झुंड,
जनवेद आग-सा जलता था,वो करता जाता सबको भस्मl
जिस विष पर विषधर गरजा था,वो भी होने लगा सुस्त,
कुछ बिल में जाकर छिपते थे,कुछ भय से होने लगे सुस्तl
लगता था बिल्कुल ऐसा कि,मृग बीच आया हो कोई सिंह,
सब तितर-बितर हो गए सर्प,जैसे जनवेद बने हों यमl
वो बड़वानल-सा हो के तीव्र,मख करने लगा था और तीक्ष्ण,
हर-हर महादेव की बोल-बोल,सर्पों को स्वाहा करता था यज्ञl
न शिव भी रक्षक उनके थे,न कोई और सहारा था,
वो बेबस होकर मरते थे,जनवेद रचाया जो था यज्ञl
अव सात जाति हो चुकी स्वाहा,अंतिम आहूति की बारी थी,
शिव के जो गले में लिपटे थे,अबके उनकी थी भी बारी थीl
वो झट से दौड़ा था इंद्रलोक,जाकर सिंहासन लिपट गया,
जब मंत्र उच्चारण किया यहाँ,तो लगे कांपने तीन लोकl
सर्पों के झुंड सामने लगे जैसे हो केवल कोई पुष्प,
इस भीषण मरण को देख-देख,अम्बर भी गर्जना करता थाl
सब सहती है बसुधा लेकिन,वो आज क्रोध से डरती है,
जब केवल एक था सर्प बचा,जो जाकर इंद्र सिंहासन था छिपाl
सिंहासन सहित वो आने लगा ,जहाँ होता था मख ये भीषण,
सब देव रोकते सिंहासन,पर न चला कोई भी बस था वहाँl
सब जाकर श्रीपति पहुँच गए,करने वो लगे थे त्राहि माम,
तब धर छलिया का रूप प्रभु,वहाँ हुए प्रकट होता था यज्ञl
वो बोले-पुत्र जनवेद सुनो,जनवेद हुए थे शांत वहाँ,
वो बोले कोमल वचन सुना,जनवेद छोड़ दो इसे यहाँl
तब बोला नाग वो काला-सा,करता हूँ जीवित इन्हें अभी,
न तेरे वंश के वंशज  को काटेगी मेरी पीढ़ी कभीl
गर काट लिया जो धोखे से,तो विष निष्फल होगा मेरा वहाँ,
इस तरह परीक्षित वंशज ने,किया दम्भ का चकनाचूर यहाँl

                                                                                              #ऋषभ तोमर(राधे)

परिचय : ऋषभ तोमर(राधे) मध्यप्रदेश के शहर अम्बाह (जिला मुरैना) में रहते हैंl इनकी आयु २० वर्ष है,और लिखने का शौक रखते हैंl 

0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

उलटा चोर कोतवाल को डांटे

Thu Jul 20 , 2017
पिछले एक माह से भारत-भूटान-चीन सीमा पर भारी तनाव व गर्म माहौल है। चीन,भारतीय सीमा के नजदीक सैन्य सड़क मार्ग का निर्माण करना चाहता है और भारतीय सेना उसके सड़क निर्माण कार्य को रोककर अपना विरोध दर्ज करा चुकी है,जिसके कारण दोनों सेनाओं के बीच तनावपूर्ण स्थिति बनी हुई है। […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।