तिरंगे की व्यथा

2
Read Time4Seconds

manglesh-300x205

(22 जुलाई तिरंगे के जन्म दिवस पर)

बैचेन है तिरंगा,घुट-घुट के घुटन में
जिए जा रहा है…,
लहराया कम,ज्यादा कफ़न के रूप में
उपयोग आ रहा है…l

आखिर कब तक मैं जवानों को 

आँचल में छुपाऊँ…,
मेरे दिल के कलेजों को कैसे अपने
दामन में सहलाऊँ…l

मेरे लालों की कुर्बानी अब सही नहीं जाती…,

लोगों को यह बात समझ क्यों नहीं आती…l

तिरंगे का रंग अब भी लाल  हो रहा है…,
अरे कुछ पल चुप हो जाओ,मेरा लाल सो रहा है…l

अब मैं नहीं चाहता तुम्हें आँचल में सुलाना…,
वक्त आ गया है उर में निहित चक्र को तुम चलाना…l

जो अपने बच्चों के तन को ढँक सकता है…,
वो दुश्मन को जमीदोंज भी कर सकता है…l

मगर हर पल हुक्मरानों का इन्तजार करता हूं…,
उनके आदेश की राह तकते तिल-तिल मरता हूँ…l

जब ज़मीर ही दूषित और सियासी हो जाए…,
खुदगर्जी खुद अपने बच्चों के लहू की प्यासी हो जाए…l

तो मुझे अपने लालों को आँचल में

सुलाना पड़ता है…,
`मंगलेश` तिरंगा लहराने के बजाए जवानों को 
उड़ाना पड़ता है…ll 
                                                                                            #डॉ. मंगलेश जायसवाल
 
परिचय : डॉ. मंगलेश जायसवाल ने प्राथमिक शिक्षा के बाद ‘कबीर और तुलसी के मानववाद का तुलनात्मक  अध्ययन’ विषय पर पीएचडी की है। आपने एमएससी और एमए (हिन्दी-संस्कृत) के साथ ही एम.एड.और बीजे (पत्रकारिता) भी कर रखा है। आप अध्यापक हैं और मध्यप्रदेश के कालापीपल में रहते हैं।अनेक पुरस्कारों-सम्मान  से देश-प्रदेश में सम्मानित हुए हैं। कई पत्र-पत्रिकाओं में कहानी-कविता छपती है तो,मंचों पर कविता पाठ(ओज) भी करते हैं। आप मूल रुप से कालापीपल मंडी( जिला शाजापुर,म. प्र.)के हैंऔर वर्तमान में मकान न. 592 प्रेम नगर, मंडी सिहोर(जिला सिहोर) में ही निवास है।
0 0

matruadmin

2 thoughts on “तिरंगे की व्यथा

  1. शानदार

    मेरी जान तिरंगा हे
    मेरी शान तिरंगा हे

    मेरी तेरी हमसब की
    पहचान तिरंगा हे।

    डॉ हरीश “पथिक” kpp

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

हिन्दी

Fri Jul 21 , 2017
हिन्दी मेरे हिन्दुस्तां,की जान दोस्तों। हिन्दी से पुरानी है,पहचान दोस्तों ll   भाषाई कई लिखे,सबने गीत गाए। हिन्दी के गीत चढ़े,परवान दोस्तों ll  हिन्दी है बड़ी मधुर,संयम भी बहुत है। हिन्दी के क्या गाऊँ,गुणगान दोस्तों ll  प्रेम डोरी बांध के,यश सबको दिलाए। हिन्दी जमीं हमारी,आसमान दोस्तों ll  ओ हिन्द के बाशिंदों,हिन्दी ज्ञान लीजिए। मातृभाषा बढ़ाओ,जगशान दोस्तों ll हिन्दी को […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।