जिन्दगी का सफर

Read Time3Seconds

madhu tiwari

हुआ गुम खुशियों का सफर मंहगाई है।

हर तरफ जुल्म बेबशी है तन्हाई है।।

पहले लोग बुनते थे रिश्तों का असर।

अब रिश्ते ही बने हैं हैरत की नजर।।

देखकर लोगों के सुख, लोग परेशान हैं।

ये सियासत, नए जमाने की पहचान है।

मौत का सामान, हर तरफ खुले आम बिकता है।

आत्मा घायल है, बदन चुप देखता है।।

क्या रखा है मजा, इस तरह से जीने में।

मौत की बू, हर वक्त आती है पसीन में।।

खौफ में जिन्दगी के, सपने चूर-चूर हुए।

खड़े मसीहा भी, कफन देने को मजबूर हुए।।

ये कैसा ताना-बाना बन रहा है जीवन का।

जहॉ सांस है ना, सासों की डोरी है।।

इंसान जी रहा, जीने की आस थोड़ी है।

हुआ गुम खुशियों की सफर मँहगाई है।

…. इर तरफ जुल्म बेबसी है तन्हाई है।।

#श्रीमती मधु तिवारी

परिचय:

नाम – श्रीमती मधु तिवारी

पति: ब्रजेश कुमार तिवारी

माता का नाम  :- श्रीमती राजमणी पांडेय

पिता का नाम  :- स्व- एस .एस. पांडेय

पद नाम       :- सहायक शिक्षक (पं.)

विभाग        :-  पंचायत एवं ग्रामीण विकास संस्था प्राथमिक शा. धाकड़ पारा जिला कोण्डागांव 

शैक्षिणक योग्यता :-  मा.शि.मं.भोपाल    हायर सेकेंडरी,गुरू घासीदास वि.वि.बिलासपुर एम.ए.भूगोल, एल.एल.बी, एम. ए. संस्कृत, एम.ए.हिन्दी,रवि.शंकर वि.वि.रायपुर सेएम.ए.लोकप्रशासन, मा.शि.मण्डल रायपुर से डी.एड.बतौर  सहायक शिक्षक पं., प्राथमिक शाला धाकड़पारा ; जिला कोण्डागांव।उल्लेखनीय कार्य- शिक्षा के क्षेत्र में साक्षर भारत अभियान में राज्य स्त्रोत सदस्य,संवाद कौशल कार्यक्रम में स्त्रोत व्यक्ति के रूप में प्रशंसनीय कार्य , सूक्ष्म नियोजन के अंतर्गत विभिन्न गतिरोध जो शिक्षा के क्षेत्र में होते है उन्हें किस प्रकार सूक्ष्म नियोजन प्रकिया द्वारा नियंत्रित करना, समुदायिक सहभागिता का शिक्षा की गुणवता व विकास में सहयोग हेतु प्रयास , शिक्षा में नवाचार का प्रयोग कर एम.जी..एम.एल. प्राथमिक शिक्षा में जिला स्त्रोत सदस्य के रूप में, रीड इंडिया रीड छ.ग. पर्यावरण प्रयोगिक प्रशिक्षण , इसके अलावा जीवन विद्या, विशेश अवाश्यकता वाले बच्चों के लिए समावेयशी शिक्षा , बालिका शिक्षा प्रोत्साहन हेतु जेण्डर समानता व मीना मंच निर्माण कार्य संभाग स्तर साथ ही जिला व राज्य स्तर ।सर्वशिक्षा अभियान राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा अभियान अंतर्गत शिक्षकों में अधिगम स्तर बढ़ाने हेतु संकुल विकासखंड एवं जिला स्तर पर स्त्रोत शिक्षक के रूप में अधिस्थापन , विशय आधारित सैकडों शिक्षकों को प्रशिक्षण उत्कृष्ट कार्य हेतु सम्मानित ।राज्य शैक्षिक अनुसंधान व प्रशिक्षण परिशद तथा राज्य साक्षरता मिशन प्राधिकरण छ.ग. द्वारा पालकों में शिक्षा के प्रति जागरूकता लाने हेतु ‘ श्रेष्ठ पालकत्व पाठयसामग्री ‘ और संदर्शिका लेखन कार्य ।साहित्यिक क्षेत्र में कविता, कहानी, लेखन,  साहित्यलेखन जिला व राज्य स्तर पर काव्यपाठ व कवियित्री के रूप पहचान ,छतीसगढ़ हिन्दी साहित्य परिशद द्वारा प्रकाशित पत्रिका चेलिक का संपादक मंडल के सदस्य के रूप में संपादन कार्य जारी ।संकुल, विकासखंड, जिला व राज्य स्तर पर विभिन्न अवसरों पर प्रदर्षित लोक नृत्य नाटय कला चित्र कला गायन , खेल कूद प्रतियोगिताओं में निर्णायक व सहयोगी की भूमिका । खेल के क्षेत्र में जिला व राज्य एवं राष्टी्रय स्तर पर खेलप्रतिभाओं के कोच , मैनेजर के रूप में लगातार प्रतिवर्श टेबिल टेनिस , खिलाड़ियों को प्रोत्साहन एवं चयन में सहयोग प्रतिवर्श कोण्डागांव जिले से कई बालक बालिकाओं ने राष्ट्रीय स्तर पर छतीसगढ़ का प्रतिनिधित्व किया।जिला व राज्य स्तर पर विभिन्न शैक्षिक, सांस्कृतिक,साहित्यिक , श्शासकीय,राजनीतिक,खेलप्रतियोगिताओं गणतंत्र दिवस समारोह स्वतंत्रता दिवस मुख्य समारोह में सफल मंच संचालन हेतु कलेक्टर द्वारा सम्मानित । जनजातीय चेतना कला साहित्य एवं संस्कृति की राष्ट्रीय पत्रिका ककसाड़ में कहानी एवं कविताओं का प्रकाशन समाचार पत्रों व देश प्रदेश कि पत्र पत्रिकाओं में साहित्यिक लेखन आकाशवाणीं जगदलपुर अंबिकापुर एवं दुरदर्शन से कविताएं परीचर्चा कहानियों का निरंतर प्रसारण जारी।

सम्मान एंव प्रशस्ति- सावित्री फूले आर्दश शिक्षिका राज्य सम्मान, बाबू जगजीवन राम कला साहित्य एवं संस्कृति अकादमी नई दिल्ली द्वारा राष्ट्रीय समता अवार्ड, भारतीय दलित अकादमी छत्तीसगढ़ द्वारा मौलाना आजाद ’शिक्षारत्न’ अवार्ड, लोक असर सम्मान 2016, गणतंत्र के दिवस के अवसर उत्कृष्ट कार्य हेतु सम्मानित जिला व राज्य स्तर पर राज्य संसाधन केंन्द्र जिला साक्षर समिति छतीसगढ़ हिन्दी साहित्यक परिशद प्रशिक्षण , प्रशिक्षण पर्यावरण संरक्षण नशामुक्ति सम्पूर्ण स्वच्छा अभियान, साक्षरता अभियान में निरन्तर भागेदारी हेतु प्रशास्ति सम्मानित। सदभावना साहित्य संस्थान रायपुर द्वारा नारी शक्ति सम्मान 2018 द्वारा सम्मानित ।

पता: तहसील-पोस्ट कोण्डागांव  जिला कोण्डागांव (छ.ग.),पिन 494226

0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

गाय को राष्ट्र्माता घोषित कराने ‘आॅक्सीजन’ का अजब तर्क !

Fri Sep 21 , 2018
कम से कम इस मामले में उत्तराखंड की भाजपा सरकार ने मोदी सरकार से लीड ले ली है। वहां की विधानसभा ने गाय को ‘राष्ट्रमाता’ घोषित करने का  प्रस्ताव सर्वसम्मति से पारित कर केन्द्र सरकार को भेज दिया है। इस बारे में अंतिम फैसला केन्द्र सरकार को करना है। इसके […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।