गृहस्थ जीवन और परमात्मा

Read Time2Seconds
            meena kumari solanki
“देखो इस तपस्या से ईश्वर को पाकर ,
 निश्छल स्वभाव से गृहस्थ जीवन में आकर”
 विश्वास है ईश्वर को पाने के लिए कठिन तपस्या करनी पड़ती है ।  इसका सीधा अर्थ हुआ कि कठिन परिश्रम या तपस्या करो और ईश्वर को पाओ। पर क्या यह तपस्या, यह परिश्रम गृहस्थ जीवन में अथवा सांसारिक जीवन में आने वाली कठिनाइयों से अधिक है ! शायद नहीं, भगवान तो फिर भी सरलता से मिल जाते हैं पर कठिन परिश्रम के पश्चात भी कई बार संसार नहीं मिलता। क्योंकि संसार में गतिरोध, उलझने और कुटिलताएँ भोगनी पड़ती हैं। जो साधु- संतों की तपस्या से कोसों दूर हैं। लोगों का मानना है कि केवल गृहस्थ जीवन त्याग कर संतों -साधुओं की तपस्या करने से परमात्मा को पाया जा सकता है परंतु यदि संतों की जाने तो उनका मानना है कि यदि संसार बनाने वाले को पाना है तो संसार चलाना सीखो।
         परिवार सहायक होता है संसार चलाने में और संसार को बनाने वाले को पाने में। भौतिक वस्तुओं की लालसा में ही सही पर अनेक कठिनाइयों को भोंगते हुए जब मानव अपने परिवार की खुशहाली के लिए खूब परिश्रम करता है और इसके लिए वह नियमित रूप से ईश्वर से प्रार्थना और धन्यवाद करता है तो सुखी परिवार के जीवन के साथ-साथ उसे स्वयं ईश्वर की प्राप्ति हो जाती है ।  क्योंकि जिसने संसार बनाया है वह उसे सुखी देख कर अतिशीघ्र प्रसन्न हो किसी ना किसी रूप में दर्शन अवश्य देते हैं।
   #डॉ.मीना कुमारी सोलंकी हरियाणा
परिचय-
नाम ___डॉ मीना कुमारी सोलंकी
जन्म स्थान ___नीमली ,चरखी दादरी, हरियाणा 
पिता ___सूबेदार शीशराम 
माता ___श्रीमती फूलवती टेलरणी
 योग्यता ___एम ए ,एमफिल ,पीएचडी हिंदी ,एम ए एजुकेशन ,जेबीटी ,बीएड , टैट ,स्क्रीनिगं आदि
व्यवसाय ___अध्ययन, अध्यापन 
रुचि ____नृत्य ,गायन, अभिनय, वादन ,डीबेट करना आदि
 विशेष __स्थानीय, राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अनेक पत्र पत्रिकाओं में रचनाओं का प्रकाशन तथा कवि सम्मेलन एवं सेमिनारों में सहभागिता।
पत्राचार__  डॉ मीना कुमारी  c/o देईचंद सांगी
 गांव व डाकखाना –सांखोल 
तहसील -बहादुरगढ़ 
जिला -झज्जर (हरियाणा )
0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

आभार मातृभाषा. काँम

Mon Apr 22 , 2019
हिन्दी के सम्मान हित, कार्य करते दिन रात। मातृभाषा, परिवार  है, साहित  को सौगात। साहित को सौगात, सभी के सृजन  प्रकाशे। नवसृजक हितमान,सभी की कलम विकासे। कहे लाल कविराय ,साहित भाल की बिन्दी। अर्पण जैन  महान, समर्पित  जीवन  हिन्दी। .                      करते सृजन प्रकाश ये, हिन्दी  अंतरजाल। अर्पण जी छापे सभी, […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।