गाँव यानी ‘दिल’ और शहर मतलब..

Read Time1Second

sanjay yadav
अक्सर पूछता है वो शख्स क्या है तेरे गांव में मेरे शहर से बढ़कर..जो तू करता है कुछ यूं बड़बोलापन। जहाँ, गाय गोबर देती है और माँ उस पर अधपकी रोटी बनाती है..क्या रखा है रे बड़बोले तेरे उस गांव में?
अब तक क्या देखा तूने गांव में..सुन दिखावटी रौनक के बाशिन्दे-तुम कहते हो क्या अंतर है गांव और शहर में, तो में कहता हूं इतना ही अन्तर है मेरे अपने उस गांव में कि वहाँ (गांव) कुत्ते आवारा घूमते हैं और गौमाता पाली जाती है और शहर में कुत्ता पाला जाता है और गौमाता आवारा घूमती है। मेरे गांव का अनपढ़ आदमी गाय चराने जाए और शहर का पढ़ा लिखा आदमी कुत्ता टहलाने जाए।ऐसे ही जीवन का है तो ये कड़वा सच कि,अनाथ आश्रम में बच्चे मिलते हैं गरीबों के और वृद्धाश्रम में बुजुर्ग मिलते हैं अमीरों के..। वक्त के साथ सब बदल जाता है दोस्त। पुराने ज़माने में जिसे हम ठेंगा कहते थे,उसे आज इस गुमनाम शहर में पसंद(लाइक) कहते हैं। था चलन जब उस खनकते हुए एक रुपए के सिक्के का,जिस पर गेंहू की बाली लहलहाते हुए बयां करती थी कि,तू भूखा नहीं सोएगा ,और आज उसी सिक्के का रूप बदल गया है। कुछ ऐसा ही उलटा है मेरे उस गांव में,जहाँ आज भी धुंए से टपकते आंसू पोंछते हुए प्यार से मां रोटी खिलाती है,जहाँ कभी भूखा भी सोना पड़ता है, यही बड़ी खूबी है मेरे गांव की। करो कभी रुख उस गांव का,जहाँ प्यार,अपनेपन के बाद हर बात लगती है खोटी। इसीलिए कहता हूं दोस्तों,सवाल पर खरा जवाब है,अब इसे दिल पर लो या दिमाग पर..।मेरा तो यही कहना है कि-
‘ गाँव को गाँव ही रहने दो साहब,
क्यों शहर बनाने में तुले हुए हो..
गांव में रहोगे तो माता-पिता के नाम से जाने जाओगे,
शहर में रहोगे तो मकान नम्बर से ही पहचाने जाओगे।।’

                                                                                #संजय यादव
परिचय :
संजय यादव इंदौर में खण्डवा रोड पर रहते हैं और जमीनी रुप से सक्रिय पत्रकार हैं। आपने एम.कॉम,एम.जे. के साथ ही इंदौर के देवी अहिल्या विश्वविद्यालय से एमबीए भी किया है। कई गम्भीर विषयों पर आप स्वतंत्ररुप से कलम चलाते रहते हैं।

0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

अपनी आँखें नम न करना

Thu Apr 27 , 2017
  तुमने कहा था,कि भूल जाना मुझे, वादा भी किया था मैंने अपने-आपसे कि,भूल जाऊँगी तुझे.. पर नहीं भुला पाई तुझे और तेरे प्यार कोl।   रोज इसी वादे के साथ सुलाती हूँ मैं दिल को, कि, नहीं याद करेगा वो कल तुझे पर जब भी खुलती है न मेरी […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।