कैसे मजबूत और अमर बने भारतीय गणतंत्र

Read Time3Seconds

shashank mishra

वर्तमान समय में गिरते राजनीतिक स्तर लोकसभा चुनाव की आहट के मध्य हम सत्तरवां गणतंत्र दिवस मनाने जा रहे हैं जब कई बार इस दिन मीडिया चैनलों के सामने इस राष्ट्रीय पर्व पर बहुत से लोग अनभिज्ञता दर्शातें है या सही नहीं बता पाते।बहुत से स्थानों पर यह पर्व औपचारिकता मात्र रह गया है।कुछ तो अवकाश के लिए स्मरण रखने लगे हैं।इस राष्ट्रीय पर्व पर पहले जैसी गम्भीरता व आम जनमानस में भी वह उत्साह नहीं रहा।भारतीय गणतंत्र को कैसे मजबूत और अमर बनाया जा सकता है।आम जनमानस में पुनः पहले सा उत्साह जगाया जा सकता है।पर कुछ लेखक मित्रों के विचार प्राप्त हुए हैं जिनको परिचर्चा के रूप में प्रस्तुत कर रहा हूं।

नीरू तनेजा का कहना है कि यह सत्य है कि गणतंत्र दिवस मनाना औपचारिकता मात्र रह गया है नेता हों या जनता वे भूतकाल को भुलाकर भविष्य में अधिक रुचि लेने लगे हैं।उनकी रुचि आगामी नेता के लिए अधिक है। इसका दुखद पहलू यह है कि भविष्य के कर्णधारों में भी इसके लिए कोई जागृति पैदा नहीं की जाती। जागरूक संस्थाओं को घर परिवारों को इसके लिए प्रेरित करना चाहिए।कुछ समय उन्हें अपने देश के उन वीरों को भी स्मरण करना चाहिए जिनके कारण आज वह यह पव्र मना रहे हैं नेता चुन रहे है।

प्रतिभा अग्रवाल का मानना है कि हम जिन वीरों के कारण यह गणतंत्र दिवस मना रहे है और जिनके सीमा पर पहरे के कारण हम सुरक्षित हैं उनको स्मरणकर व हिन्दु मुस्लिम सिक्ख ईसाई आपस में मिलकर रहकर इस पर्व को मनाकर इसको अमर कर सकते हैंपहले हमारा देश सोने की चिड़िया कहा जाता था। हम सबके प्रयास से ईमानदारी से इसके प्रति समर्पण भाव से एक बार पुनः बन सकता है।

डा- देशबन्धु शाहजहांपुरी जी का कहना है कि हमें अपना गणतंत्र सदैव अमर बनाये रखने के लिए उन बिन्दुओं पर ध्यान देना होगा जिनके कारण हमें लम्बे समय तक गुलामी की बेंड़ियों में जकड़े हुए जीवन जीने पर मजबूर होना पड़ा। हम सबको अपने कम्र के प्रति सदैव सजग रहना होगा। आलस्य लालच और ईर्ष्यालु प्रवृत्ति का त्याग करके अपने देश को वैज्ञानिक रूप से सुद्ृढ़ बनाना होगा। हम सबको मिलकर अपने अपने क्षेत्रों में इतनी प्रगति करनी होगी जिससे हमारे देशका नाम सम्पूर्ण विश्व में रोशन हो सके।

संजय भारद्वाज जी का मानना है कि गणतंत्र को मजबूत करने के लिए हमें अपने मताधिकार के महत्व को समझना होगा। जातिवाद क्षेत्रवाद साम्प्रदायिकता को नकारना होगा। ईमानदारी जिम्मेदारी के भाव को जाग्रत रखना होगा। अदालती प्रक्रिया को तेज करना होगा। सोचना होगा कि हम देश को क्या देते हैं न कि देश हमें क्या देता है। सही नेताओं को संसद में पहुंचाना होगा। नारी शक्ति को और जागृत करना होगा। सभी देश वासियों को एक होना पड़ेगा शिक्षा का प्रसार करना होगा।

विजय तन्हा जी का कहना है कि देश की आजादी के बाद कुछ समय तक लोक तंत्र की व्यवस्थायें सुचारू रूप से चलीं पर गन्दी राजनीति ने दूरियां बढ़ा दीं। आज चुनाव शब्द का अर्थ बदल गया। लालच प्रलोभन हावी हो गया।जनप्रतिनिधियों की समाजसेवा किसी से छुपी नहीं है।अन्नदाता आत्महत्या कर रहा है। दूसरी ओर एक जनप्रतिनिधि एक चुनाव जीतकर अरबों से खेलता है। वास्तव में गणतंत्र को मजबूत करने के लिए हमारे देश के कर्णधारों को अपना चरित्र साफ कर चुनाव प्रक्रिया को वास्तविक रूप देना होगा। तभी गणतंत्र मजबूत और खुशहाल होगा।

कल्पना आर्य का कहना है कि गणतंत्र की मजबूती के लिए राष्ट्रीयता की भावना पहली आवश्यकता है।जिसे नागरिको को समझना होगा केवल राष्ट्रीय पर्व मनाने से यह भावना नहीं आ सकती। यह जोश सदैव के लिए जगाना होगा। प्रजातंत्र का चौथा स्तम्भ इसके लिए अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है। देश के भविष्य बच्चों को साक्षर ही नहीं शिक्षित भी बनाना होगा।देश के गणतंत्र को कमजोर करने वाली शक्तियों के खिलाफ उठकर खड़ा होना होगा।मतदान से पूर्व सही गलत का फर्क करना होगा तभी हमारा गणतंत्र मजबूत और अमर हो सकेगा।

शम्भू प्रसाद भट्ट स्नेहिल का मानना है कि गणतंत्र सम्पूर्ण देश की जनता का वह शासन है जिसमें हर नागरिक बराबर का भागीदार है सबसे गौरवशाली बात यह है कि विभिन्न विचार धाराओं के कारण अलग अलग सोच रखने के बावजूद भी हमारे देश का संवैधानिक प्रजातंत्र आज भी विश्व में सबसे बड़ा गणतंत्र है। मतदाता की गम्भीरता जागरूकता इसको मजबूत बना रही है।

#शशांक मिश्र

परिचय:शशांक मिश्र का साहित्यिक नाम `भारती` और जन्मतिथि १४ मई १९७३ है। इनका जन्मस्थान मुरछा-शहर शाहजहांपुर(उत्तरप्रदेश) है। वर्तमान में बड़ागांव के हिन्दी सदन (शाहजहांपुर)में रहते हैं। भारती की शिक्ष-एम.ए. (हिन्दी,संस्कृत व भूगोल) सहित विद्यावाचस्पति-द्वय,विद्यासागर,बी.एड.एवं सी.आई.जी. भी है। आप कार्यक्षेत्र के तौर पर संस्कृत राजकीय महाविद्यालय (उत्तराखण्ड) में प्रवक्ता हैं। सामाजिक क्षेत्र-में पर्यावरण,पल्स पोलियो उन्मूलन के लिए कार्य करने के अलावा हिन्दी में सर्वाधिक अंक लाने वाले छात्र-छात्राओं को नकद सहित अन्य सम्मान भी दिया है। १९९१ से लगभग सभी विधाओं में लिखना जारी है। श्री मिश्र की कई पुस्तकें प्रकाशित हैं। इसमें उल्लेखनीय नाम-हम बच्चे(बाल गीत संग्रह २००१),पर्यावरण की कविताएं(२००४),बिना बिचारे का फल (२००६),मुखिया का चुनाव(बालकथा संग्रह-२०१०) और माध्यमिक शिक्षा और मैं(निबन्ध २०१५) आदि हैं। आपके खाते में संपादित कृतियाँ भी हैं,जिसमें बाल साहित्यांक,काव्य संकलन,कविता संचयन-२००७ और अभा कविता संचयन २०१० आदि हैं। सम्मान के रूप में आपको करीब ३० संस्थाओं ने सम्मानित किया है तो नई दिल्ली में अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर वरिष्ठ वर्ग निबन्ध प्रतियोगिता में तृतीय पुरस्कार-१९९६ भी मिला है। ऐसे ही हरियाणा द्वारा आयोजित तीसरी अ.भा.हाइकु प्रतियोगिता २००३ में प्रथम स्थान,लघुकथा प्रतियोगिता २००८ में सर्वश्रेष्ठ प्रस्तुति सम्मान, अ.भा.लघुकथा प्रति.में सराहनीय पुरस्कार के साथ ही विद्यालयी शिक्षा विभाग(उत्तराखण्ड)द्वारा दीनदयाल शैक्षिक उत्कृष्टता पुरस्कार-२०१० और अ.भा.लघुकथा प्रतियोगिता २०११ में सांत्वना पुरस्कार भी दिया गया है। आप ब्लॉग पर भी सक्रिय हैं। आप अपनी उपलब्धि पुस्तकालयों व जरूरतमन्दों को उपयोगी पुस्तकें निःशुल्क उपलब्ध करानाही मानते हैं। आपके लेखन का उद्देश्य-समाज तथा देशहित में कुछ करना है।

0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

वक्त-ए-आखिर...

Fri Jan 25 , 2019
r वक्त-ए-आखिर तुझमें मुझमें फर्क क्या रह जाएगा, ना रहेगा कोई छोटा, ना बड़ा रह जाएगा, =============================== काम आएँगी वहां बस अपनी-अपनी नेकियां, मान-इज़्ज़त महल-दौलत सब पड़ा रह जाएगा, =============================== सीख लूँ खुदगर्ज़ियाँ मैं भी ज़माने से मगर, इंसानियत से फिर क्या मेरा वास्ता रह जाएगा, =============================== फर्क  ही  इतना  […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।