इमरान का अंग्रेजी-विरोध

Read Time0Seconds
vaidik
पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने अंग्रेजी के सार्वजनिक इस्तेमाल पर वैसा ही प्रहार किया है, जैसा कभी गांधीजी और लोहियाजी किया करते थे या जैसा कि आजकल मुझे करना पड़ता है। विपक्षी नेता बिलावल भुट्टो पाकिस्तान की संसद में अंग्रेजी में बोलते हैं। इमरान ने इस पर आपत्ति की है। उनका कहना है कि उन्हें राष्ट्रभाषा उर्दू में बोलना चाहिए। पाकिस्तान की संसद में अंग्रेजी में बोलना 90 प्रतिशत पाकिस्तानी जनता का अपमान है, जो अंग्रेजी नहीं समझती। यह बात हिंदुस्तान पर भी लागू होती है लेकिन हमारे किसी प्रधानमंत्री ने आज तक इमरान-जैसी स्पष्टवादिता का परिचय नहीं दिया। यदि डाॅ.लोहिया प्रधानमंत्री बन गए होते तो वे तो संसद में अंग्रेजी के प्रयोग पर पूर्ण प्रतिबंध लगा देते। इमरान ने बिलावल की अंग्रेजी पर हमला इसलिए भी किया होगा कि वह उनके विरोधी हैं लेकिन उन्होंने जो बात कही है, वह बिल्कुल सही है। इमरान खुद लंदन में रहे हैं, एक विदेशी महिला के पति भी रहे हैं और खुद अंग्रेजी भी अच्छी बोलते हैं लेकिन वे उसके सार्वजनिक प्रयोग के विरोधी हैं। पाकिस्तान की संसद में मैंने कई बार अन्य सांसदों और मंत्रियों को अंग्रेजी बोलते हुए सुना है। क्या ही अच्छा हो कि इमरान इस पर प्रतिबंध लगवाएं। भारत की तरह पाकिस्तान में भी कानून अंग्रेजी में बनते हैं और अदालत की बहस और फैसलों की भाषा भी अंग्रेजी ही है। उच्च शिक्षा में भी अंग्रेजी माध्यम का बोलबाला है। नौकरशाही सारा प्रशासन अंग्रेजी में चलाती है। यदि इमरान खान अंग्रेजी के इस वर्चस्व को पाकिस्तान में खत्म कर सकें तो अंग्रेज के सभी पुराने गुलाम देशों में उनकी तूती बोलने लगेगी। यों भी भारत के मुकाबले पाकिस्तान के नेता अंग्रेजी का इस्तेमाल बहुत कम करते हैं। मेरा जनरल जिया-उल-हक, जनरल मुशर्रफ, बेनजीर भुट्टो, नवाज शरीफ, आसिफ जरदारी, फारुख लघारी तथा कई फौजी नेताओं से जमकर वार्तालाप होता रहा है लेकिन मुझसे किसी ने भी अंग्रेजी में बात करने की कोशिश कभी नहीं की। दुबई में जब बेनजीर मुझसे मिलने मेरे बेटे के घर आती थीं तो बिलावल और उनकी दोनों बेटियों को भी साथ लाती थीं। वे आपस में भी उर्दू में बात करते थे। पाकिस्तान के लोगों की मातृभाषाएं पंजाबी, सिंधी, पश्तो और बलूच आदि हैं लेकिन उन्होंने उर्दू को राष्ट्रभाषा स्वीकार किया है। इसीलिए इमरान खान का उर्दू के प्रति आग्रह सर्वथा उचित मालूम पड़ता है। उन्हें अंग्रेजी से नफरत नहीं है। वे उसके नजायज दबदबे के खिलाफ हैं।
#डॉ. वेदप्रताप वैदिक
0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

श्री शारदा वाचनालय में मनाया गया विश्व पुस्तक दिवस

Thu Apr 25 , 2019
गोंदिया। नगर के प्रख्यात श्री शारदा वाचनालय में २३अप्रैल को विश्वपुस्तक दिवस प्रसिद्ध कवि गीतकार एवं वाचनालय के प्रमुख ग्रंथपाल श्री शिव शर्मा की अध्यक्षता में मनाया गया। इस प्रसंग पर नगर के उपस्थित कवि श्री छगन पंचे, श्री शशि तिवारी, श्री लक्ष्मीकांत कटरे एवं श्री निखिलेशसिंह यादव ने पुष्पगुच्छ […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।