आजादी

Read Time1Second
om prakash fulara
आजादी जो मिली है, इसे संभाले हुए रहना।
बुलन्दी के इसके सपने, पाले हुए रहना।
अरमान लाखों दिल में, लिए जो चले गए
उन अरमानों के तुम ही,रखवाले हुए रहना।
शहादत से अपनी इस,प चमन को खिला गए
इस चमन की रक्षा को, मतवाले हुए रहना।
बहा कर चले गए हैं वो लहू स्वराज को
इसको बनाए रखने को, लहू उबाले हुए रहना।
मिलती है ये आजादी प्रफुल्ल मुकद्दर से
इसको गले का हार, बनाए हुए रहना।
आजादी जो मिली है उसे सम्भाले हुए रहना
बुलन्दी के इसके सपने,पाले हुए रहना।
#ओम प्रकाश फुलारा ‘ प्रफुल्ल’
परिचय- 
ओम प्रकाश फुलारा “प्रफुल्ल”
सहायक अध्यापक हिंदी
बागेश्वर(उत्तराखंड) 
पिता – स्व0 श्री विष्णु दत्त
माता  – श्रीमती कमला देवी
पत्नी और बच्चे – श्रीमती मंजू फुलारा, पुत्री प्रियांशी फुलारा, पुत्र प्रियांशु फुलारा
शैक्षिक योग्यता- एम0ए0 बी एड
साहित्य यात्रा का प्रारम्भ वर्ष- 1914 से
साहित्यिक उपलब्धियाँ-
काव्य संग्रह ‘अंकुर’प्रकाशनाधीन
साझा संकलन – धरोहर अपनों की, गुलदस्ता, काव्य दर्पण सहित 3 अन्य साझा संग्रहों में रचनाओं का प्रकाशन
पत्र पत्रिकाएँ- समाचार पत्र में पत्रों का प्रकाशन
विशेष सम्मान पत्र विवरण –
सहित्य सारथी सम्मान,
कवि मनीषी सम्मान,
स्वर सम्राट,
प्रहलाद अनुराग सम्मान,
सौहार्द भूषण,
साहित्य सृजक,
स्टार हिंदी बेस्ट कंटेंट राइटर अवार्ड,
सर्वेश्वर दयाल दुबे साहित्य सम्मान,
स्टार हिंदी साहित्यकार सम्मान,
साहित्य अक्षत सम्मान, साहित्य रत्न, सारस्वत सम्मान ।
विशेष उपलब्धियाँ – अकाशवाणी से लेखों का प्रसारण
स्कूल पत्रिका का सम्पादन
0 0

matruadmin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

कवि सम्मेलनों से हो रही कविता नदारद, चुटकुलें और चुहल हावी

Fri Aug 2 , 2019
  कविता के स्वरुप के साथ छेड़छाड़ हुई, तुकबंदी के चक्कर में विधाएँ हाँफने लगी, भाषा का खुले आम अपमान होने लगा, कवि सम्मेलनों में बैठें धृतराष्ट्र के साथ बैठें दुस्शासन सरे आम काव्य का चीरहरण करने लग गए, विदूषक मंडलियों के सहारे निजी तो ठीक है पर सरकारी खर्च […]

Founder and CEO

Dr. Arpan Jain

डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ इन्दौर (म.प्र.) से खबर हलचल न्यूज के सम्पादक हैं, और पत्रकार होने के साथ-साथ शायर और स्तंभकार भी हैं। श्री जैन ने आंचलिक पत्रकारों पर ‘मेरे आंचलिक पत्रकार’ एवं साझा काव्य संग्रह ‘मातृभाषा एक युगमंच’ आदि पुस्तक भी लिखी है। अविचल ने अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में स्त्री की पीड़ा, परिवेश का साहस और व्यवस्थाओं के खिलाफ तंज़ को बखूबी उकेरा है। इन्होंने आलेखों में ज़्यादातर पत्रकारिता का आधार आंचलिक पत्रकारिता को ही ज़्यादा लिखा है। यह मध्यप्रदेश के धार जिले की कुक्षी तहसील में पले-बढ़े और इंदौर को अपना कर्म क्षेत्र बनाया है। बेचलर ऑफ इंजीनियरिंग (कम्प्यूटर साइंस) करने के बाद एमबीए और एम.जे.की डिग्री हासिल की एवं ‘भारतीय पत्रकारिता और वैश्विक चुनौतियों’ पर शोध किया है। कई पत्रकार संगठनों में राष्ट्रीय स्तर की ज़िम्मेदारियों से नवाज़े जा चुके अर्पण जैन ‘अविचल’ भारत के २१ राज्यों में अपनी टीम का संचालन कर रहे हैं। पत्रकारों के लिए बनाया गया भारत का पहला सोशल नेटवर्क और पत्रकारिता का विकीपीडिया (www.IndianReporters.com) भी जैन द्वारा ही संचालित किया जा रहा है।लेखक डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ मातृभाषा उन्नयन संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा देश में हिन्दी भाषा के प्रचार हेतु हस्ताक्षर बदलो अभियान, भाषा समन्वय आदि का संचालन कर रहे हैं।